इग्नू 34वें दीक्षांत समारोह के तहत 2 लाख से अधिक छात्रों को देगा डिग्री, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय अपने 34वें दीक्षांत समारोह के तहत देश विदेश के 2,35000 छात्रों को डिग्री, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट प्रदान करेगा। यह दीक्षांत समारोह 15 अप्रैल को इग्नू के मैदानगढ़ी परिसर के बाबा साहेब अंबेडकर कन्वेंशन सेंटर में सुबह 11 बजे से होगा। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक होंगे। वह छात्रों को ऑनलाइन न केवल डिग्री प्रदान करेंगे, बल्कि उन्हें संबोधित भी करेंगे। 

इग्नू के अनुसार कोविड-19 से उपजी स्थिति के कारण दीक्षांत समारोह में सभी छात्रों को नहीं बुलाया गया है। इसका ऑनलाइन प्रसारण न केवल इग्नू के फेसबुक पेज पर होगा, बल्कि इसका लाइव टेलीकॉस्ट ज्ञान दर्शन चैनल, स्वयं प्रभा चैनल पर भी किया जाएगा, जिससे देश विदेश के वे छात्र जो यहां उपस्थित नहीं हो पा रहे हैं वह सीधा प्रसारण देख सकें। इग्नू में प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में छात्र दाखिला लेते हैं। यह देश का सबसे बड़ा दूरस्थ शिक्षा का केंद्र है। बड़ी संख्या में हर राज्य में इसके शिक्षा केंद्र हैं। हर साल कैदी भी अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए इग्नू में दाखिला लेते हैं। 

इग्नू गुयाना के 20 हजार छात्रों को ऑनलाइन सहित अन्य माध्यमों से शिक्षा प्रदान करेगा। इस बाबत हाल ही में इग्नू बोर्ड की बैठक में निर्णय लिया गया। इसके तहत गुयाना का प्रतिनिधिमंडल भी इग्नू से मिला है। अपनी जरूरतों के बाबत कोर्स संचालित करने की बात कही है। 

इग्नू ने हाल के वर्षों में कई अनुबंध किए हैं, जिसमें बेहतर शिक्षा देने के लिए लोगों ने इग्नू से संपर्क किया है। नवोदय विद्यालय समिति के शिक्षकों के लिए सर्टिफिकेट कोर्स संचालित करने के अलावा इग्नू ने बाजार की मांग को ध्यान में रखते हुए कई कोर्स संचालित किए हैं। इग्नू के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि आने वाले समय में अपने यहां बेहतर शिक्षण के अलावा छात्रों की नामांकन संख्या बढ़ाने पर भी जोर दे रहे हैं। 

इग्नू ने कोरोना कॉल में छात्रों को कैसे बेहतर शिक्षा उपलब्ध हो इस दिशा में काफी काम किया है। इसके लिए न केवल वर्चुअल लैब की स्थापना की गई बल्कि लगभग एक दर्जन वे पाठ्यक्रम जो ऑफलाइन संचालित होते थे ऑनलाइन भी संचालित किया।