नगर निगम कर्मचारी ही उड़ा रहे कोविड-19 के नियमों की धज्जियां

सहारनपुर। एक तरफ तो सरकार कोरोना काल में लोगों को हिदायत दे रही है कि दो गज की दूरी मास्क है जरूरी और इसी अभियान को सफल बनाने के लिए नगर निगम द्वारा सुबह से शाम तक वाहनों को जागरूकता अभियान के लिए चलाया जा है और लोगों को मास्क व दो गज की दूरी के लिए प्रेरित किया जा रहा है लेकिन नगर निगम के कुछ कर्मचारी ही इस अभियान को धत्ता बताने का कार्य कर रहे हैं। जिसका जीता जागता उदाहरण शारदानगर के शमशान भूमि में देखने को मिला है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नगर निगम में ठेका सफाई कर्मचारी के रूप में कार्यरत ठेका सफाई कर्मचारियों की जान जोखिम में डालकर उनसे बिना सुरक्षा उपकरणों के ही मृतकों के कपड़े आदि उठवाये जा रहे हैं, जिससे कोरोना फैलने का बहुत ज्यादा अंदेशा फैल गया है। शारदा नगर सैक्टर 14 के सुपरवाईजर द्वारा अपनी हठधर्मिता दिखाते हुए सफाई कर्मचारियों पर जबरन दबाव बनाकर यह कार्य कराया जा रहा है।

 क्या ऐसे चैन को तोड़ा जाएगा जब सफाई कर्मचारियों से मृतकों के कपड़े उठाए जा रहे हैं सवाल खड़ा होता है नगर निगम के अधिकारियों पर क्या उनके आदेश पर सफॉइ कर्मचारिययो से मेला गुघाल के पास बने श्मशान घाट में जहां रोजाना दर्जनो कोरोना मृतको का दाह संस्कार किया जाता है वही आज  इस दृश्य ने निगम अधिकारीयो पर भी सवाल खड़ा होता है ही अगर कीसी सफॉइ कर्मचारी की  कोरोना से  मौत होती है तो उसकी जिम्मदार नगर निगम अधिकारी होंगे । 

जब हमने सफॉई कर्मचारीयो से बात की गई तो उनका कहना था कि जबरन सुपर वाइज्र हमसे कोरोना मृतको के दाह संस्कार की जगह से उनकर कपड़े उठवा रहा है हमने मना किया तो हम ये नही उठाएगे तो गाली गलौच की ओर काम से निकालने की धमकी दे डाली जिसके डर से सफॉइ कर्मचारीयो ने आंखों में आँसू लिए बताई पूरी बात साथ ही कहा कि अगर हम कुछ होता है तो उसकी जिमेदार नगर निगम अधिकारी व सुपर वाइजर होगा।