जनपद बन चुका है अवैध वसूली का अड्डा

अनिल श्रीवास्तव /फतेहपुर : ना कोई बोलने वाला है, ना कोई सुनने वाला है और ना ही कोई रोकने वाला,फिर क्या मानो जिला पंचायत के बैरियर  के नाम पर गुंडा टैक्स की वसूली की इजाजत मिल गई हो। सारे नियम कानूनों को बलाये ताक रख कर खुलेआम गुंडा टैक्स की वसूली को अंजाम दिया जा रहा है। जनपद में ष्सत्ता है तो मुमकिन हैष् जिसका मतलब चाहे अवैध विवादित जमीन का मामला हो या फिर जिला पंचायत के वसूली, सभी में यह नारा सटीक बैठता है और कहा जा सकता है कि ष्सत्ता है तो मुमकिन है। जिला पंचायत के बैरियर,जनपद में हो रहे मौरंग खनन के स्थानों पर लगाए गए हैं। जहां कई जनपद के वाहन मौरंग लेने आते हैं। इन वाहनों से जिला पंचायत के बैरियर के नाम पर वसूली की जाती है जो नियम कानूनों के बिल्कुल विपरीत है। वसूली में मनचाही रकम ली जाती है। ट्रक तो कई जनपदों से आते हैं तो फिर जनपद की बदनामी भी कई जनपदों में होनी  है!