हल्की बारिश होने से किसानों की नींद उड़ी

कोंच(जालौन) : दिन शुक्रवार को सुबह से ही जैसे ही आसमान पर बादलों ने अपना डेरा जमाया बैसे ही किसानों के दिलों की धड़कनें बढ़ना शुरू हो गयीं और मध्यान्ह होते होते बारिश की बूंदों ने किसानों को सर पकड़ने के लिए  मजबूर कर दिया क्योंकि बर्ष भर की किसानों की मेहनत खेतों में बिखरी पड़ी है जिसमें मटर मसूर चना आदि फसलों की कटाई होकर खेतों में पड़ी है जो इस हल्की बरसात से ही खराब होने की स्थिति बन गयी है अगर और अधिक वर्षा होती है और मौसम नहीं खुलता है तो किसानों की मेहनत पर पानी ही पानी फेर देगा  जिससे किसानों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो जाएगा वहीं बेमौसम की बरसात ने बच्चों एवं बूढ़ों को परेशान कर दिया है क्योंकि बदले मौसम ने शीत लहर को आमंत्रण दे दिया है।