भारत और चीन के बीच अविश्वास का माहौल चरम पर

अमेरिका के एक शीर्ष एडमिरल ने कहा है कि एक तरफ जहां अमेरिका और भारत के बीच सैन्य संबंध अब तक के सर्वश्रेष्ठ स्तर पर हैं, वहीं भारत और चीन के बीच अविश्वास का माहौल चरम पर है. एडमिरल जॉन सी एक्यूलिनो ने आरोप लगाया कि हिन्द महासागर में चीन की धोखा देने वाली कार्रवाई और पारदर्शिता में कमी ने वहां स्थिरता एवं सुरक्षा के लिए खतरा पैदा किया है.
एडमिरल एक्यूलिनो ने चीन के साथ एक माह तक चले गतिरोध में अपनी उत्तरी सीमा को सुरक्षित करने के भारत के प्रयासों की भी सराहना की. एडमिरल एक्यूलिनो ने अमेरिका हिन्द-प्रशांत कमान में कमांडर पद के लिए अपने नाम की पुष्टि के लिए हुई सुनवाई के दौरान संसद की सशस्त्र सेवा समिति में मंगलवार को कहा, "भारत और चीन के बीच अविश्वास का माहौल चरम पर है... वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हुई झड़प के परिणामस्वरूप द्विपक्षी संबंध बिगड़े हैं और भारत 'वन बेल्ट, वन रोड' पहल के तहत चीन की गतिविधियों को लेकर काफी शंकित है..."
सांसदों के लिखित प्रश्नों के उत्तर में उन्होंने कहा, "पाकिस्तान के ग्वादर और श्रीलंका के हम्बनटोटा में चीन का रुख भी भारत के लिए चिंता का विषय है और यही हाल हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में भी है... हिन्द महासागर में PRC की धोखा देने वाली कार्रवाई और पारदर्शिता में कमी ने वहां स्थिरता एवं सुरक्षा के लिए खतरा पैदा किया है..."
सांसद देब फिचर की ओर से भारतीय सीमाओं पर चीन की कार्रवाई और भारत-अमेरिका सहयोग के भविष्य के बारे में पूछे गए प्रश्न के उत्तर में एडमिरल एक्यूलिनो ने अपनी उत्तरी सीमा की रक्षा के लिए भारत द्वारा किए गए कार्यों की सराहना की. एडमिरल ने कहा कि अमेरिका और भारत के बीच सैन्य संबंध अब तक के सर्वश्रेष्ठ स्तर पर हैं और अमेरिका द्विपक्षीय तथा बहुपक्षीय सहयोग, अभ्यास, उच्चस्तरीय संयुक्त अभियानों और शीर्ष स्तर पर सहयोग के मामलों को लगातार बढ़ा रहा है. चीन की हालिया गतिविधियों पर उन्होंने कहा कि इन गतिविधियों ने उन खतरों को रेखांकित किया है, जो चीन की ओर से भारत सहित सभी देशों के लिए उत्पन्न किए जा रहे हैं.