कविता

होली आई होली आई,

रंग भरा दिन ले आई,

चाचा खेलें चाची खेलें,

मौसा खेलें मौसी खेलें

मौसम ने भी ली अंगड़ाई।

                                    घर आँगन सब रंगे हुए है,

                                   सबके चेहरे सने हुए है,

                                   राजा भैया नाच रहे हैं,

                                   छोटू भैया झांक रहे है

                                 सबने मिलकर धूम मचाई।

                                    होली आई होली आई ।।

 मम्मी पापा रंगे हुए है 

छोटू भैया डरे हुए है

अब डर कहे का बोले पापा,

दोस्त तुम्हारे कहते आजा,

रंग भरे गुब्बारे लेकर 

निकल पड़े अब छोटू भाई ।

 होली आई होली आई।।

                                       ताऊ आएं ताई आएं

                                संग अबीर गुलाल ले आएं,

                              सबने खेली जम कर होली ,

                           बाहर निकल दादी जी बोली ,

                           बंद करो अब हँसी ठिठोली ,

                           खाओ बच्चों अब मिठाई ।

                              होली आई होली आई।

डॉ. कमलेंद्र कुमार श्रीवास्तव

राव गंज ,कालपी ,जालौन

उत्तर प्रदेश पिन कोड285204

ईमेल om_saksham@rediffmail.com

मोबाइल नंबर9451318138