बच्चे की प्रथम पाठशाला माता होती है: वेदप्रकाश

सहारनपुर। ज्ञानदीप समाज कल्याण युवा संस्था द्वारा आयोजित शैक्षणिक विचार गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए प्रधानाचार्या शिवानी जैन ने कहा कि शिक्षकों को छात्र-छात्राओं को अध्ययन कराने से पहले अपने विषय का सम्पूर्ण ज्ञान कर लेना चाहिए ताकि किसी भी परेशानी से न गुजरना पड़े। शिवानी जैन आज यहां स्थानीय देवबंद मार्ग तल्हेडी बुजुर्ग में स्थित राष्ट्रदेव इंटर नेशनल एकेडमी में आयोजित मिशन शक्ति कार्यक्रम को सम्बोधित कर रही थी।

अध्यापक अभिषेक शर्माव उवेश कुमार ने बच्चों को परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए कडी मेहनत करने को कहा ताकि वे अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सके। महासचिव वेदप्रकाश पोपली ने कहा कि बच्चे की प्रथम अध्यापिका मां होती है तथा दूसरी अध्यापिका विद्यालय की होती है, इसलिए हमें बच्चों के व्यक्तित्व विकास को ध्यान में रखते हुए अध्यापन करना चाहिए। इस अवसर पर सोनू चैधरी, मौ.अजीम, सुनील कुमार, विपिन कुमार, हन्नी त्यागी, अंजू आदि मौजूद रहे।