डीएम की लगातार छापेमारी व औचक निरीक्षण से सरकारी विभागों में हड़कंप मचा हुआ

गोण्डा। डीएम की लगातार छापेमारी व औचक निरीक्षण से सरकारी विभागों में हड़कंप मचा हुआ है। गुरुवार को जिलाधिकारी मार्कण्डेय  शाही ने करनैलगंज तहसील का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान ड्यूटी से नदारद रहे तहसील के दोनो पूर्ति निरीक्षकों के खिलाफ कार्यवाई के निर्देश दिये हैं। डीएम ने कार्यालय में ड्यूटी से गायब रहे पूर्ति निरीक्षक बालेश्वरमणि त्रिपाठी तथा दिनेश कुमार वर्मा को नोटिस जारी करने व उनका वेतन रोकने का निर्देश दिया। इस दौरान उन्होंने रजिस्ट्रार कानूनगो के कमरे में फैली गंदगी को देख कर्मचारियों को जमकर फटकार लगाई। इस दौरान निलंबित रजिस्ट्रार भी अपने पटल पर काम करता मिला। उसके बाद तहसील सभागार के सभी पटल का निरीक्षण किया मिली कमियों को दूर करने एंव अभिलेखों की बाईडिंग कराये जाने और साफ सफाई रखने के निर्देश दिये। तत्पश्चात उपजिलाधिकारी के कक्ष में बैठक कर फरियादियों की फरियाद को सुना और एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार को समस्याओं के शीघ्र निस्तारण हेतु निर्देशित किया। इस दौरान नगर पालिका की किसी शिकायत पर अवर अभियंता पूजा शुक्ला से जवाब तलब किया। इसके बाद उन्होंने खतौनी आदि कार्य को भी देखा और सभी को निर्देश दिये कि वह लम्बित मामलों का निस्तारण समय से करे। जन शिकायतों को निपटाने में तेजी लाये और समय सीमा के भीतर उन्हें निस्तारित किया जाये। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी।