लखनऊ: उत्सव में छाये चैती, होरी और फाग के रंग

रंजना रंजीता मिश्रा

-    गौरेया सांस्कृतिक संस्थान का आयोजन

-    गोमती नगर स्थित संस्थान सभागार में हुआ

 लखनऊ। अवध की होरी, चैती और फाग की मधुर लोकगीतों के बीच महिलाओं ने होली का खूब उत्साह मनाया। गौरेया सांस्कृतिक संस्थान की ओर से फागोत्सव मनाया गया। उत्सव वास्तुखंड गोमती नगर स्थित संस्थान सभागार में शनिवार को हुआ। लोक गायिका रंजना  मिश्रा ने लोकगीतों की मनमोहक प्रस्तुतियों से पूरा माहौल होलीमय कर दिया। कार्यक्रम की शुरुआत में युवा रचनाकार शिखा सिंह प्रज्ञा ने ‘मेरे मन मे विरह वेदना दे गया, वो मेरी सारी खुशियां चुरा ले गया…’ कविता सुनाकर प्रशंसा पाई। अयोध्या से आये कवि शैलेंद्र पांडेय मासूम ने अपनी रचनाओं से प्रभावित किया।

कन्हैया घर चलो गुईयां आज खेले होरी

लोक गायिका रंजना मिश्रा ने उन्होंने कोविड-19 जागरुकता गीत बलमा चलो-चलें कोरोना का टीका लगवाये…से की। मुख्य अतिथि सुमन पांडा ने कन्हैया घर चलो गुईयां आज खेले होरी…सुनाकर प्रभावित किया। ढोलक, हारमोनियम और बांसुरी की मधुर धुनों पर गूंजते लोकगीतों को सुन संगीतप्रेमी खूब प्रभावित हुए। प्रीती लाल ने अरे गणपति खेलें रंग आज परवत पर…गीत सुनाया। विमला पंत ने आंगन बोलत कागा…, मत मारो कान्हा कोकरी…, यामिनी पांडेय ने देवर मोरी चुनरी पे होरी आई कन्हैया… गाकर प्रशंसा पाई। यामिनी व रंजना मिश्रा ने बाबा काशी विश्वनाथ गौरा संग… और दीपिका मिश्रा ने सावंरिया नंद किशोर व अवधेश यादव ने फगुनवा मे रंग रस-रस बरसे…सुनाया तो लोगों ने नृत्य कर संगीतप्रेमियों को आनंदित कर दिया। संस्था सचिव रंजना मिश्रा ने बढ़ती गर्मी में पशु-पक्षियों के लिए घरों में हर रोज पानी व दाना रखने की अपील की। उन्होंने बताया कि यह आयोजन संस्थान की ओर से लोक संस्कृति सरंक्षण योजना के तहत हुआ। इस दौरान संस्थान अध्यक्ष अनुमेहा गुप्ता, उपाध्यक्ष पवन पांडेय, कवयित्री शिखा सिंह प्रज्ञा, कोषाध्यक्ष विनोद कुमार मिश्र, महिमा, राहुल, आरती शुक्ला सहित अन्य संगीतप्रेमी मौजूद थे।

रंजना रंजीता मिश्रा =लखनऊ: संस्थान सभागार की जगह सद्भावना पाकॆ मे वास्तुखण्ड 1/293 गोमतीनगर।