माकपा किसान आंदोलन के समर्थन में अभियान चलाएगी

 

लखनऊ। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) शहीद भगत सिंह की स्मृति में किसान आंदोलन के समर्थन में अभियान चलाएगी। उत्तर प्रदेश राज्य सचिव मंडल की बैठक के बाद जारी एक प्रेस बयान में बताया गया कि शहीद भगत सिंह किसानों और मजदूरों का राज स्थापित करना चाहते थे। आज उनके सपनों के साथ विश्वासघात किया जा रहा है। भाजपा के मोदी राज में किसानों और मजदूरों का निर्मम शोषण और उत्पीड़न हो रहा है। भाजपा की मोदी सरकार ने 3 नए कृषि कानूनों और लेबर कानूनों के जरिए किसानों मजदूरों के जीवन और जीविका पर ही हमला बोल दिया है। किसानों की जमीन और खेती छीन कर पूंजीपतियों को मुनाफे के लिए देना चाहती है। इसके विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों के साथ दुश्मनों जैसा व्यवहार कर रही है। माकपा प्रदेश के गांव में वर्षा और पद यात्रा के माध्यम से भगत सिंह के विचारों तथा मोदी सरकार के किसान मजदूर विरोधी नीतियों के बारे में प्रचार अभियान चलाएगी। इस अभियान में वामपंथी और किसान आंदोलन समर्थक सभी राजनीतिक दलों को भी साथ में लेने का प्रयास किया जाएगा। माकपा ने निजीकरण और निगमीकरण के खिलाफ 15 और 16 मार्च को बैंक कर्मचारियों और अधिकारियों की हड़ताल तथा 17 और 18 मार्च को बीमा कर्मचारियों के विरोध आंदोलन का समर्थन करने का फैसला किया किया है।