स्कूल से शराब जब्त होने के मामले पर नीतीश के मंत्री को तेजस्वी यादव ने घेरा


पटना: बिहार में राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मंत्री रामसूरत राय के मुद्दे पर लगातार हमलावर हैं. यहां तक कि शनिवार को तेजस्वी ने उनके मंत्री और खुद मुख्यमंत्री को घेरने के लिए रसीद तक पेश कर दिया है. दरअसल, मामला मंत्री रामसूरत राय के भाई के स्कूल का है, जहां पर पिछले साल में बड़ी मात्रा में शराब मिली थी. तेजस्वी इस मामले में लगातार कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. आज उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की और उसके पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ पटना में राजभवन तक मार्च भी किया. उनके साथ तेज प्रताप यादव भी मौजूद थे.
तेजस्वी ने आज मंत्री रामसूरत राय के उस दावे कि स्कूल उनके भाई ने किसी और व्यक्ति को चलाने के लिए दिया है, उसके जवाब में बिजली का बिल जारी किया जो मंत्री राय के भाई के नाम पर जारी हुआ है. यह मामला सामने आने के बाद रामसूरत राय ने कहा था कि इस स्कूल का संचालक कोई और है. इस दावे के खिलाफ तेजस्वी ने यह बिल जारी किया है. तेजस्वी ने आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पूछा कि आख़िर इस मामले में मंत्री का भाई अभी तक गिरफ़्तार क्यों नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री 'शराबबंदी की नौटंकी रचकर' अपने मंत्री को बचाने की कोशिश कर रहे हैं.
तेजस्वी ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मामले में अभी तक कोई कार्रवाई न किए जाने पर सवाल उठाया और कहा कि 'मंत्री रामसूरत राय के भाई पर एफआईआर होती है और अब तक कोई कार्रवाई नहीं की जाती. रामसूरत राय ने मीडिया में बयान दिया है कि वो उस स्कूल के संस्थापक नहीं हैं, उनके भाई की जमीन है और उनके भाई ने जमीन लीज पर दी है. कोई और उस विद्यालय को चलाता है.' तेजस्वी ने लीज के समझौते की मांग करते हुए कहा कि 'अगर मंत्री जी की बातों में सच्चाई है तो वो एग्रीमेंट की कॉपी पेश करें। हमारे पास पर्याप्त सबूत हैं। मंत्री जी को बर्खास्त करना चाहिए.'