एक या दो नहीं, 8 तरह के होते हैं सिरदर्द जो उड़ा देंगे आपकी नींद

दिनभर काम करने के बाद 90 % भारतीय सिरदर्द की समस्या से घिरे रहते हैं लेकिन कई बार सिरदर्द का कारण कुछ और भी हो सकता है। अक्सर लोग लगातार होने वाली सिरदर्द को माइग्रेन समझने की भूल कर देते हैं लेकिन जनाब सिरदर्द एक नहीं बल्कि कई तरह का होता है। 

सबसे पहले जानिए कितनी तरह का होता है सिरदर्द

1. माइग्रेन और साइनस सिरदर्द

पहला सिरदर्द को लोग माइग्रेन के नाम से भी जानते हैं, जिसके कारण सिर के बीचों बीच आधे हिस्से में दर्द होता है। यह दर्द 72 घंटे तक बना रह सकता है। वहीं साइनस सिरदर्द सर्दी-जुकाम के कारण होता है, जिसमें आधे सिर, पलकों के ऊपर कभी-कभी दर्द होता है। साथ ही इसमें चेहरे पर भी सूजन आ जाती है।

2. क्लस्टर सिरदर्द

हिस्टामिन हेडएक यानि क्लस्टर सिरदर्द गुच्छे के रूप में होता है कई महीनों या 1 कुछ घंटों का हो सकता है। यह ज्यादातर 30-40 उम्र की औरतों व युवाओं में अधिक देखने को मिलता है, जिसमें हल्की चुभन, कनपटी या आंखों के आसपास तेज दर्द,  आंसू आना, पलकों का झुक जाना या नाक जमने जैसे लक्षण दिखते हैं।

3. टेंशन वाला सिरदर्द

काम या किसी चीज की चिंता में डूबे रहते हैं तो उसके कारण भी सिरदर्द की समस्या हो सकती है। इसके कारण आप डिप्रेशन या एंग्जायटी की चपेट में भी जा सकते हैं।

4. एक्सर्शनल सिरदर्द

यह ऐसा सिरदर्द है जो कोई काम शुरू या खत्म करने के बाद होता है जैसे- एक्सरसाइज, ऑफिस वर्क से पहले या बाद में। शोध के अनुसार, ऐसा सिरदर्द सामान्य रूप से 5 मिनट में खुद ब खुद ठीक हो जाते है लेकिन बहुत दुर्लभ स्थिति में यह 3 दिनों तक भी रह सकता है। हालांकि ऐसे मामले काफी कम देखने को मिलते हैं और यह 6 महीनों में ठीक भी हो जाता है।

5. सैकंडरी हैडेक

किसी बीमारी जैसे इंफेक्शन, मानसिक रोग, लकवा, हाई ब्लडप्रेशर, सिर में चोट, अल्जाइमर, ब्रेन टैमरेज या ट्यूमर के कारण भी सिर में तेज व असहनीय दर्द हो सकता है। इसे सैकंडरी हैडेक की श्रेणी में रखा जाता है।

इन कारणों से भी होता है सिरदर्द

1. हैंगओवर, एयरप्लेन में सफर, ज्यादा गर्मी, व्यायाम व्यायाम करने के कारण भी सिरदर्द हो सकता है। इसके कारण दिमाग में ग्लूकोज लेवल कम हो जाता है जो सिरदर्द की वजह बनता है।

2. दांतों में दर्द, नींद न आना, थकावट, मौसम में बदलाव, कुछ दवाईयां, अधिक जुकाम, धूम्रपान व शराब का सेवन से भी सिरदर्द की शिकायत हो सकती है।

3. अचानक चश्मे का नंबर बढ़ गया है तो वो भी सिरदर्द का कारण बन सकता है। ऐसे में आपको नेत्र विशेषज्ञ से चेकअप करवाना चाहिए।

4. बहुत अधिक डाइटिंग करते हैं या व्रत रखते हैं तो ऐसे लोग भी सिरदर्द की समस्या से घिरे रहते हैं।

5. कई घंटों तक कम्प्यूटर, मोबाइल या टीवी के सामने बैठे रहने वाले बच्चों व व्यस्कों को भी सिरदर्द जकड़ सकता है।

डॉक्टर को कब दिखाएं

जब अचानक सिरदर्द शुरू हो जाए या इसके साथ बुखार, गर्दन, शरीर में दर्द, त्वचा में चकते पड़ जाए तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। अगर उम्र 50 से अधिक साल है और अचानक सिरदर्द शुरू हो गया है तो भी एक्सपर्ट से सलाह लें।

सिरदर्द दूर करने का घरेलू नुस्खा

हल्के गुनगुने जैतून, अरंडी या नारियल तेल से मसाज करने पर भी सिरदर्द से आराम मिलेगा। इसके अलावा जैतून तेल को डाइट का हिस्सा भी बनाएं। इसके लिए आप पैरों के तलवे की मसाज भी कर सकते हैं।

ज्यादातर लोग बिना डॉक्टरी परामर्श के गोलियां खा लेते हैं जोकि सही नहीं। हां नॉर्मल सिरदर्द को दूर करने के लिए आप कुछ घरेलू नुस्खे अपना सकते हैं क्योंकि उससे सेहत को कोई नुकसान नहीं होता।

posted by -दीपिका पाठक