पंजाब में किसानों ने 169 दिनों के बाद रेल पटरियों पर धरना समाप्त किया

चंडीगढ़ : गेहूं के कटाई के मौसम को ध्यान में रखते हुए, आंदोलनरत किसानों ने गुरुवार को तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ अमृतसर के पास रेलवे पटरियों पर 169 दिनों तक चलने वाले सबसे लंबे विरोध प्रदर्शनों में से एक को अनिश्चकाल के लिए खत्म करने की घोषणा की। किसान अमृतसर-दिल्ली रेल लिंक पर जंडियाला गुरु गांव में धरना दे रहे थे। किसान मजदूर संघर्ष समिति के नेता सविंद्र सिंह ने कहा कि प्रदर्शन कर रहे किसान यूनियनों की एक बैठक के बाद रेलवे नाकाबंदी को वापस लेने का फैसला किया है। 30 किसान यूनियनों के सदस्यों के विपरीत, किसान मजदूर संघर्ष समिति यात्री गाड़ियों के चलाने के खिलाफ अड़ा हुआ था। उनके विरोध के कारण, ट्रेनों को तरन तारन के रास्ते अमृतसर के लिए चलाया गया। तीन कृषि कानूनों से नाराज, सैकड़ों किसान राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर 100 दिनों से अधिक समय से धरने पर बैठे हैं। उनकी मांग है कि प्रस्तावित कानूनों को निरस्त किया जाना चाहिए।