मुख्य विकास अधिकारी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई विकास कार्यों की समीक्षा बैठक


बहराइच। शासन के सर्वोच्च प्राथमिकता वाले विकास कार्यों, 50 लाख रूपये से अधिक लागत के अन्य निर्माण कार्यों, नीति आयोग कार्यक्रमों व अन्य कार्यों की समीक्षा हेतु कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में विभागवार समीक्षा करते हुए मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि विकास कार्यों को गति प्रदान करते हुए निर्धारित लक्ष्य को समय से पूर्ण कराना सुनिश्चित करें। 

स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं की समीक्षा करते हुए निर्देश दिया कि आयुष्मान भारत योजना अन्तर्गत सभी पात्र लाभार्थियों को शत-प्रतिशत गोल्डेन कार्ड निर्गत कराते हुए उन्हें स्वास्थ्य योजनाओं से लाभान्वित किया जाय। संस्थागत प्रसव में बढ़ोत्तरी पर संतोष व्यक्त करते हुए सी.डी.ओ. ने निर्देश दिया कि लाभार्थियों को भुगतान की कार्यवाही समय से की जाय। सीडीओ ने यह भी निर्देश दिया कि स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रमों को प्राथमिकता के आधार पर संचालित करायें तथा सभी प्रकार एम्बुलेन्स सेवाओं को मानक के अनुसार संचालित करें। उन्होंने निर्माणाधीन स्वास्थ्य भवनों को माह मार्च तक पूर्ण कराये जाने के साथ-साथ टीकाकरण के लक्ष्य को पूर्ण करने के लिए सत्रों में बढ़ोत्तरी करने का भी निर्देश दिया। 

सामुदायिक शौचालयों के निर्माण कार्य की समीक्षा के दौरान जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिया गया कि निर्माण के प्रगति की साप्ताहिक समीक्षा कर अपेक्षित सुधार लाये जाने के साथ-साथ शौचालयों के उपयोग का सत्यापन कराये जाने का भी निर्देश दिया। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) की समीक्षा के दौरान मुख्य विकास अधिकारी ने निर्देश दिया कि लाभार्थियों के चयन की कार्यवाही यथाशीघ्र पूर्ण कर सूची कार्यदायी संस्था को उपलब्ध करा दें ताकि निर्माण शीघ्र से शीघ्र प्रारम्भ हो सके। 

खाद्य सुरक्षा मिशन की समीक्षा के दौरान निर्देश दिया कि अधिक से अधिक कार्डधारकों को ई-पाॅस मशीन के माध्यम से खाद्यान्न का वितरण कराया जाय साथ ही इस बात का प्रयास किया जाये कि प्राॅक्सी वितरण कम से कम हो। सी.डी.ओ. ने आधार सीडिंग कार्य की प्रगति को भी बढ़ाये जाने का निर्देश दिया। रिक्त दुकानों की सभी औपचारिकताएं पूर्ण कर दुकानों का संचालन सुनिश्चित करायें। विभिन्न प्रकार की पेंशन योजना की समीक्षा के दौरान निर्देश दिया लाभार्थियों की लगातार समीक्षा करते रहें। समाज कल्याण विभाग को निर्देश दिया गया कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना अन्तर्गत सामूहिक विवाह का आयोजन कर लक्ष्य को पूर्ण कराएं।

श्रम प्रवर्तन विभाग को निर्देश दिया गया कि ईंट भट्ठों पर कैम्प आयोजित कर अधिक से अधिक श्रमिकों को पंजीकरण करायें तथा विभागीय योजना से मनरेगा के श्रमिकों को भी आच्छादित करें। पौधरोपण कार्य की समीक्षा करते हुए निर्देश दिया कि वर्षाकाल के लिए निर्धारित किये गये लक्ष्यों को पूर्ण करने के लिए अभी से प्रभावी कार्ययोजना तैयार कार्यवाही प्रारम्भ कर दी जाय। 

नीति आयोग अन्तर्गत निर्धारित सूचकांकों की समीक्षा के दौरान कौशल विकास मिशन की प्रगति संतोषजनक न होने रैन्क प्रभावित होने पर कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए निर्देश दिया कि डे-बाई-डे माॅनीटरिंग की जाये। मुख्य विकास अधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारी को यह भी सुझाव दिया कि अच्छी रैन्क वाले जनपदों से बात कर जिले की प्रगति में सुधार जाये जाने का प्रयास करें। वित्तीय समावेशन कार्य की समीक्षा के दौरान बैकों को निर्देश दिया कि अभियान चलाकर खातों का अपडेशन करायें। 

इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ. राजेश मोहन श्रीवास्तव, जिला विकास अधिकारी राजेश कुमार मिश्र, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. डी.के. सिंह, परियोजना निदेशक डीआरडीए अनिल कुमार सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ. बलवन्त सिंह, उपायुक्त मनरेगा के.डी. गोस्वामी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी दिनेश कुमार यादव, उप निदेशक कृषि डाॅ. आर.के. सिंह, जिला कृषि अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय, जिला उद्यान अधिकारी पारसनाथ, जिला विद्यालय निरीक्षक राजेन्द्र कुमार पाण्डेय, जिला पंचायत राज अधिकारी उमाकान्त पाण्डेय, लीड बैंक प्रबन्धक अमित गौरव सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी मौजूद रहे।