ट्रैक्टर रैली में जान गंवाने वाले नवरीत सिंह के परिजनों से मिलीं प्रियंका गांधी


नई दिल्ली: Farmer Protest : 26 जनवरी को कृषि कानूनों के खिलाफ हुई किसान ट्रैक्टर रैली में जान गंवाने वाले नवरीत सिंह के परिजनों से मिलने कांग्रेस महासचिव आज उनके गांव पहुंची. यूपी के रामपुर जिले के दिबदिबा गांव पहुंचकर प्रियंका गांधी उन्हें श्रद्धांजलि दी. बता दें, नवरीत सिंह की गत 26 जनवरी को नई दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई दुर्घटना में मौत हो गई थी.
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि नवरीत 25 साल के थे, मेरा बेटा 20 साल का है. उनके साथ ऐसा हादसा हुआ कि वे फिर वापस नहीं आए. उनके दिल में किसानों की पीड़ा था, किसानों पर जुल्म हुआ है. गुरु गोविंद सिंह ने कहा है ज़ुल्म करना पाप है और जुल्म सहना उससे भी बड़ा पाप है. किसानों पर बहुत बड़ा जुल्म हुआ है. शहीद को आतंकवादी और साजिश के तहत किसान को देखते हैं.अगर वो नेता ऐसा नहीं कर सकते की आपकी नहीं सुन सकते तो वो आपके काम के नहीं.'
ही उन्होंने कहा कि इस परिवार को कहना चाहती हूं आप अकेले नहीं हैं. देश वासी खड़ा है. हम खड़े हैं. आपके पोते की शहादत व्यर्थ नहीं होने देंगे. तब तक लड़ाई जारी रखेंगे जब तक तीन कानून वापस न हो जाएं.' प्रियंका गांधी ने मंच से सत श्री अकाल का नारा लगाया और आखिरी में कहा 'वाहे गुरु जी की फतह... वाहे गुरुजी का खालसा'
गौरतलब है कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में नए कृषि कानूनों के खिलाफ 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड में शामिल 27 वर्षीय किसान की मौत उनका ट्रैक्टर पलटने के बाद उसके नीचे दबने से हो गई थी. घटना के समय वह मध्य दिल्ली के आईटीओ पर एक पुलिस अवरोधक को तोड़ने की कोशिश कर रहे थे. विदेश में शादी के बाद 27 वर्षीय नवरीत सिंह अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को दावत देने के लिए हाल में ऑस्ट्रेलिया से उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में स्थित अपने घर आए थे.