लोक भवन के सामने फिर आत्मदाह का प्रयास कन्नौज के युवक ने लगाई खुद को आग


मुस्तैद सुरक्षा कर्मियो ने महज आठ सेकेन्ड के अन्दर बुझाई आग हालत खतरे से बाहर

लखनऊ। सोमवार की दोपहर उत्तर प्रदेश की विधान सभा और लोक भवन के सामने उस समय हड़कम्प मच गया जब एक 38 वर्षीय युवक ने अपने शरीर पर पेट्रोल डाल कर खुद को आग लगा ली लेकिन विधान सभा की सुरक्षा मे तैनात सुरक्षा कर्मियो ने आग के शोलो से घिरे युवक के शरीर पर लगी आग को महज आठ सेकेन्ड के अन्दर बुझा कर उसे सिविल अस्पताल पहुॅचा दिया जहाँ उसकी हालत खतरेे से बाहर बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि खुद को आग लगाने वाला युवक कन्नौज का रहने वाला है और लेखपाल द्वारा उसकी जमीन के सम्बन्ध मे की गई कार्यवाही से आहत था। ज्वाईन्ट पुलिस कमिश्नर ने आठ सेकेन्ड के अन्दर युवक के शरीर पर लगी आग को महज आठ सेकेन्ड मे बुझाने वाले सुरक्षा कर्मियो को तत्परता से कार्यवाही करने पर बधाई दी है। लोक भवन के सामने युवक द्वारा खुद को आग लगा कर आत्मदाह का प्रयास किए जाने की घटना के बाद मौके पर पहुॅचे ज्वाईन्ट पुलिस कमिश्नर नवीन अरोड़ा ने बताया कि लोक भवन के सामने अपने शरीर पर आग लगाने वाला युवक बुन्दारा छिन्दरामऊ कन्नौज के रहने वाले राम शरण का पुत्र उमा शंकर है उन्होने बताया कि खुद को आग लगाने वाले उमाशंकर की माँ के द्वारा उसे जमीन दी गई थी जिसकी लिखा पढ़ी के बाद जमीन उसके नाम एलाट भी हो गई थी चकबन्दी के बाद उस जमीन का गाटा संख्या बदल गया श्री0 अरोड़ा के अनुसार क्षेत्रीय लेखपाल द्वारा जो रिपोर्ट लगाई गई उसमें जमीन उमाशंकर के नाम नही थी उमाशंकर लेखपाल की कार्यवाही से आहत था और उसने कन्नौज जिला प्रशासन से इस सम्बन्ध में कार्यवाही के लिए शिकायत भी की थी। उन्होने बताया कि उमाशंकर अपने साथ शीशी मे पेट्रोल लेकर आया था जिसे उसने अपने शरीर के निचले हिससे मे छिड़क कर खुद को आग लगाई थी। श्री0 अरोड़ा का कहना है कि विधानसभा की सुरक्षा मे तैनात सुरक्षा कर्मियों ने महज 6 से 7 सेकेन्ड के अन्दर युवक के शरीर पर लगी आग को बुझा कर मुस्तैदी का परिचय दिया है उन्होने युवक के शरीर पर लगी आग को तत्काल बुझाने वाले सुरक्षा कर्मियो की मुस्तैदी से खुश होकर उन्हे बधाई भी दी है। ज्वाईन्ट पुलिस कमिश्नर नवीन अरोड़ा का कहना है कि इस प्रकरण को डीएम कन्नौज को भेज कर जाॅच कराई जाएगी कि जिस जमीन के सम्बन्ध मे विवाद सामने आया है वो जमीन उमाशंकर की है या नही है। ज्वाईन्ट पुलिस कमिश्नर नवीन अरोड़ा का कहना है कि 100 प्रतिशत लोगो की तलाशी लेना इस लिए सम्भव नही है क्यूकि किसी की प्राईवेसी को भंग करना हमारे अधिकारी मे नही है । उन्होने कहा कि किसी के मन मे क्या है वो क्या करने वाला है इसका पता लगा पाना मुमकिन नही है लेकिन जिस तरह से आज हुई आत्मदाह के प्रयास की घटना के बाद सुरक्षा कर्मियों ने महज 6 से 7 सेकेन्ड के अन्दर रिस्पांस दिया है वो संतोषजनक है। आपको बता दे कि इससे पहले भी लोक भवन विधान सभा के सामने कई लोगो ने आत्मदाह का प्रयास किया है जिसमें कई लोगो की जाॅन भी जा चुकी है लेकिन मौजूदा समय मे विधान सभा के आसपास सुरक्षा में मुस्तैद सुरक्षा कर्मी पहले से ज्यादा मुस्तैद मुद्रा मे रहते है इस लिए आज हुई आत्मदाह के प्रयास की घटना के बाद युवक को गम्भीर जलसे से पहले बचा कर अस्पताल पहुॅचा दिया गया बताया जा रहा है कि उमाशंकर 30 प्रतिशत जला है।