मोहब्बतपुर में शीघ्र विश्वविद्यालय का शिलान्यास कराया जाए

 आज़मगढ़। मोहब्बतपुर में विश्वविद्यालय का शिलान्यास कराने की माँग को लेकरआज विश्वविद्यालय अभियान आज कमिश्नर कार्यालय पंहुचा और जिला प्रशासन द्वारा किये जा रहे हीलाहवाली के प्रति विरोध दर्ज किया। बड़ी संख्या में शिक्षक, छात्र व आधी आबादी कार्यालय पंहुचकर लोक निर्माण विभाग और जिला प्रशासन के खिलाफ जमकर प्रदर्शन-नारेबाजी की और ज्ञापन सौपा।  इस अवसर पर विश्वविद्यालय अभियान के संयोजक और एसोसिएट प्रोफेसर डा0सुजीत भूषण ने कहा कि मोहब्बतपुर में कोई समस्या नहीं है पिछले डेढ़ से हम लोग भी देख रहे है कहीं जलजमाव नहीं होता है। कुछ जमीन जरूर लो लैंड है जहाँ से होता हुआ शाहगढ के तरफ से बरसात में बरसाती पानी जाता है। किन्तु यह ऐसी समस्या नहीं है कि वहां विश्वविद्यालय नहीं बन सकता। शिक्षक संघ के के अध्यक्ष डा0प्रवेश सिंह ने कहा कि 327 किसानो की जमीन का लगभग 30 करोड़ मुवावजा देकर जमीन का  अधिग्रहण भी किया जा चुका है। उनका मुआवजा कैसे वापस होगा? राकेश गाँधी ने कहा कि कार्यदायी संस्था लोक निर्माण विभाग मिट्टी पाटने के लिए 50 करोड़ मांग रही है जिसमे शासन ने कटौती की। इसी को लेकर ठनी है। अनीता द्विवेदी ने कहा कि मुख्यमंत्री के विश्वविद्यालय के ड्रीम प्रोजेक्ट के साथ लोक निर्माण विभाग और जिला प्रशासन द्वारा खिलवाड़ और शासकीय धन का दुरूपयोग किया जा रहा है जिसे जनपदवासी कभी बर्दास्त नहीं करेंगे। 

   इस अवसर पर वरिष्ठ अधिवक्ता शत्रुघ्न सिंह, सेन्ट्रल बार के अध्यक्ष त्रिभुवन पति त्रिपाठी, पूर्व मंत्री नरेंद्र प्रताप सिंह, डा0ईश्वर चन्द्र त्रिपाठी, अमित कुमार सिंह, सरोज गिरी, शिवबोधन उपाध्याय, पूनम सिंह, अनामिका सिंह पालीवाल, बृजेश कुमार दुबे, मनिंदर सिंह,  डी0एन0सिंह, सत्यजीत श्रीवास्तव, ऋषभ राय, रणविजय सिंह, सतीश सिंह, संतोष पाण्डेय, शैलेन्द्र कुमार, मार्तण्ड प्रताप सिंह, आलोक कुमार सिंह आदि बड़ी संख्या में प्रबुद्ध, छात्र और महिलाएं उपस्थित रहीं।