क्या सच है


बाबा बरसावे किसानों पर लाठी , देव लोक वासी खींचे टाठी! 

तानाशाही, राष्ट्रवाद ,बहुसंख्यकवाद निगलता लोकतंत्र!

गांधी के देश में गोडसे का महिमामंडन!

हे राम !

अनिल त्रिपाठी