वन रक्षक को ड्यूटी के दौरान मारी गोली, मामला दर्ज


देवास : मध्यप्रदेश के देवास जिले से हत्या की खबर सामने आई है। जिले के पुंजापुरा वन क्षेत्र में ड्यूटी पर तैनात 58 साल के वन रक्षक मदनलाल वर्मा को कथित तौर पर कुछ लोगों ने गोली मार दी। पुलिस को उनका शव बृहस्पतिवार की देर रात पुंजापुरा वन परिक्षेत्र में छोटी तलाई के पास मिला। मदनलाल वर्मा की लाश खून से लथपथ अवस्था में थी।

मामले में पुलिस का कहना है कि वन रक्षक मदनलाल वर्मा बृहस्पतिवार की सुबह करीब 11 बजे क्षेत्र के गश्त पर गए हुए थे। जब वह देर शाम तक भी नहीं लौटे तो रेंजर और पुलिसकर्मियों ने उनकी तलाश शुरू की। इस दौरान बृहस्पतिवार की देर रात को खून से लथपथ अवस्था में उनका शव पुंजापुरा वन परिक्षेत्र में छोटी तलाई के पास से बरामद हुआ। पुलिस ने देखा की उनके शरीर में गोली लगी हुई थी।

पुलिस की शुरुआती जांच के अनुसार, जंगल में कुछ संदिग्ध लोगों को देखकर वन रक्षक मदनलाल ने कार्रवाई की होगी तभी आरोपियों ने देशी कट्टे से उन पर गोली चला दी, जिससे उनकी मौत हो गई। फिलहाल मामले में उदय नगर पुलिस थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ भादंवि की धारा 302 (हत्या) के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। शव का पोस्टमॉर्टम उदय नगर स्वास्थ्य केंद्र में किया जा रहा है, जिसके बाद मृतक के गृह नगर उज्जैन के रामघाट में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

बता दें, पुलिस को हत्या के पीछे शिकारियों या लकड़ी माफियाओं के शामिल होने की आशंका है। ऐसे में आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस की तीन टीमों का गठन भी किया गया है। इस मामले में देवास वन मंडल अधिकारी पी. एन. मिश्रा ने कहा, ‘‘मदनलाल वर्मा वन मंडल देवास के परिक्षेत्र पुंजापुरा की बीट रतनपुर के वन रक्षक थे। संदिग्ध परिस्थितियों में उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई।’’ उन्होंने आगे कहा कि मृतक को शहीद का दर्जा दिलाए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके अलावा मृतक के परिवार को 10 लाख रुपये का विशेष अनुदान और परिवार के एक सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति दी जाएगी।