स्कूलों में लौटी रौनक, बच्चों के चेहरे पर दिखी पढ़ने की ललक


प्रथम दिवस स्कूल में सहमति पत्र न ले जाने के कारण स्कूलों में नही मिला प्रवेश

सीतापुर। जिले में शासन की मंशा के अनुरूप बुधवार को जिले में कक्षा 6 से 8 तक की कक्षाएं शुरू हो गई हैं । बुधवार को स्कूलों में रौनक देखी गई वहीं बच्चों के चेहरे पर पढ़ाई के प्रति उनकी ललक देखने को मिली। हालांकि कक्षाएं शुरू होने के प्रथम दिवस विद्यालय प्रबंध तंत्र के द्वारा पूर्व में बताए गए अभिभावक का सहमति पत्र ना ले जाने के कारण बच्चों को स्कूल में प्रवेश नहीं मिला, जिसके बाद वह वापस घर लौट आए। जबकि कुछ बच्चे अपने साथ सहमति पत्र लेकर गए थे, जिन्हें थर्मल स्क्रीनिंग एवं हाथों को सैनिटाइज करने के बाद क्लासरूम में भेजा गया है।
मालूम हो कि कोरोना काल की वजह से बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन हो रही थी, जिसके कारण बच्चे स्कूल नहीं पा रहे थे। हालांकि घर पर ही रुक कर बच्चों के द्वारा ऑनलाइन पढ़ाई की जा रही थी, लेकिन  अपने दोस्तों से ना मिल पाने की टीस बच्चों के चेहरे पर स्पष्ट दिखाई दे रही थी। बुधवार को जब शासन के दिशा निर्देशों के क्रम में कोविड-19 गाइड लाइंस का अनुपालन करते हुए कक्षा 6 से 8 तक की कक्षाएं  प्रारंभ हुई तो बच्चों के चेहरे पर रौनक लौट आई। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अजीत कुमार के निर्देशों के अनुपालन में पूरे जिले में बुधवार को कक्षा 6 से 8 तक के पढ़ाई शुरू हो गई है। बीएसए ने सभी स्कूलों के प्रबंध तंत्र को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि इस दौरान कोविड-19 गाइड लाइंस का पालन प्रत्येक दशा में सुनिश्चित किया जाए तथा बच्चों के अभिभावकों से उनकी सहमति पत्र लेकर ही शिक्षण कार्य कराया जाए। इसी क्रम में महोली तहसील क्षेत्र के मां कमला देवी शिक्षण संस्थान सहित क्षेत्र के तमाम स्कूलों में बच्चों को प्रवेश तभी दिया गया जब उनकी थर्मल स्क्रीनिंग कर ली गई। मां कमला देवी शिक्षण संस्थान के प्रबंधक प्रियांश दीक्षित ने बताया कि शासन की गाइड लाइन के तहत क्लास संचालित हो रही हैं।