बर्फ से ढके पहाड़ी इलाके, सात डिग्री गिरा देहरादून का पारा


उत्तराखंड के कई इलाकों में मौसम आज भी खराब है। बीते दो दिन से बर्फबारी का सिलसिला शुक्रवार तड़के भी जारी रहा। सुबह के समय बर्फबरी रुक गई। राजधानी देहरादून समेत कई इलाकों में हालांकि हल्की धूप निकली है, लेकिन पहाड़ी इलाके बर्फ से ढके हैं। मौसम विज्ञान केंद्र ने देहरादून समेत मैदानी इलाकों में बारिश की संभावना जताई है। मौसम केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि देहरादून, नैनीताल व कई अन्य जिलों में बारिश, ओलावृष्टि व बिजली गिरने की आशंका है। 1800 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में हिमपात के आसार हैं। 1800 मीटर से कम ऊंचाई वाले इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

शहर में गुरुवार को दिनभर रुक-रुक कर हुई बारिश से पारा सात डिग्री गिर गया। इससे ठंड के साथ ही सर्द हवाओं से ठिठुरन भी बढ़ गई। मसूरी और चकराता की पहाड़ियों से भी ठंडी हवाएं चलीं। इसके चलते ठिठुरन बढ़ गई। इसके बाद देर रात र रुक-रुककर बारिश होती रही। इस कारण पिछले दिन के अधिकतम तापमान की तुलना में सात डिग्री तापमान लुढ़क गया।
पहाड़ों की रानी मसूरी और धनोल्टी में आज मौसम साफ है। लेकिन गुरुवार देर रात हुई बर्फबारी के बाद धनोल्टी और बुरांशखंडा में बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। गुरुवार को बड़ी संख्या में पर्यटक धनोल्टी और बुरांशखंडा में मौसम का लुत्फ उठाते दिखे। पर्यटक पंकज ने कहा कि बुरांशखंडा में बर्फबारी की उम्मीद थी। हम बेहद लकी रहे कि बर्फ बारी लाइव देखने को मिली। वहीं, जौनसार में चकराता पूरी तरह से बर्फ से ढक गया।
कुमाऊं के कुछ हिस्सों में आज मौसम साफ है तो कहीं कोहरा बना हुआ है। वहीं, मुनस्यारी में सीजन का पहला हिमपात हुआ। नैनीताल की चोटियों पर भी हल्का हिमपात हुआ। वहीं,  नैनीताल के धानाचूली में बिती रात जमकर बर्फबारी हुई।
बुधवार रात मुनस्यारी के पातलथौड़, बलांती, बेटुलीधार, कालामुनि में करीब एक इंच जबकि खलिया में दो इंच हिमपात हुआ। पंचाचूली, हंसलिंग, नाग्निधुरा, छिपलाकेदार, सिदम खान की ऊंची चोटियां बर्फ से सराबोर हो गई। रानीखेत और बागेश्वर में भी बर्फबारी हुई।
गुरुवार दोपहर बाद बदरीनाथ धाम, हेमकुंड साहिब, रुद्रनाथ, फूलों की घाटी, औली, गोरसों सहित ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी हुई जो तड़के तक जारी रही। वहीं, आज मौसम साफ है। बर्फ से सराबोर वादियां धूप खिलने से और भी खूबसूरत नजर आ रही हैं।