आल इंडिया यूनानी तिब्बी कांग्रेस ने मनाया विश्व यूनानी चिकित्सा दिवस

सहारनपुर। आल इंडिया यूनानी तिब्बी कांग्रेस ने रुड़की रोड़ स्थित एक सभागार में विश्व यूनानी चिकित्सा दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया। इस अवसर पर सहरानपुर यूनानी मेडिकल कॉलेज के संरक्षक व ऑल इंडिया यूनानी तिब्बी कॉंग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष हक़ीम मतिउल्लाह मजीद ने कहा कि हकीम अजमल खान के 153 वें जन्म दिवस पर यह दिन भारत सरकार के आयूष मन्त्रालय के आदेशानुसार मनाया जाता है। हकीम अजमल खान का जन्म 11 फरवरी 1868 को हुआ था हकीम साहब उच्चकोटि के हकीम जिनसे महात्मा गांधी और उस समय के वायसराय,जनरल अपना ईलाज कराते थे। गरीब लोगों का निशुल्क ईलाज होता था। हकीम अजमल खान न सिर्फ अच्छे हकीम थे बल्कि एक शिक्षा विद्,स्वतन्त्रता सैनानी, जिन्होने एक अल्कलायड खोजा था जिसे अजमलीन नाम दिया गया। जामिया मिल्लिया विश्व विद्यालय के संस्थापक,करोल बाग आयुर्वेदिक यूनानी मेडिकल कालेज दिल्ली के संस्थापक थे। उन्होंने कहा कि यूनानी चिकित्सा पद्धति तथा यूनानी के चाहने वालों कि अनदेखी की जा रही है। प्रदेश मे यूनानी चिकित्सालयों की भारी कमी है जिनकी संख्या बढाये जाने पर जोर दिया। जिससे यूनानी चिकित्सा का लाभ अधिक से अधिक आम जन तक पहुंच सके। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डॉ ज़ाहिद उमर ने कहा कि फार्मेसी के छात्रों को यूनानी पैथी की अनेक टिप्स बताये और कहा कि यदि आप अपनी इम्यूनिटी बनाये रखना चाहते है तो बराबर मात्रा में बिहदाना,उन्नाब,सपिस्तान का जोशान्दा बनाकर पियें।

भारतीय चिकित्सा परिषद उत्तराखंड के सदस्य व यूनानी चिकित्सा अधिकारी डा नवेद आजम ने बताया हाल मे हुई परिषद की बैठक मे परिषद के द्वारा चिकित्सको के नवीनीकरण  की अवधि 5 साल के बजाये 15 वर्ष कर दी गयी है। सभी रजिस्टर्ड चिकित्सको के पहचान पत्र भी जारी कर दिये गये हैं और जल्द यूनानी जीएनएम पाठयक्रम शुरू करने की बात कही। कालेज के निदेशक डा यूसुफ अन्सारी ने कार्यक्रम का संचालन एचएमएच पैरामेडिकल कॉलेज के निदेशक डॉ यूसुफ अन्सारी ने किया। कार्यक्रम मे मौजूद डा गय्यूर अहमद,डा अहमद फारूकी,डा फैजान अहमद,डा आलमगीर,डा गजाला नसरीन,डा नदीम अहमद,डा फारूक अहमद,डा जहांगीर,डा आश मुहम्मद,डा अभिषेक त्यागी,फार्मेसिस्ट्स सलमान,आदि मौजूद रहे।