आराम के बाद भी महसूस होती है थकान और सुस्ती? कहीं आपको भी तो नहीं यह बीमारी

क्या पूरी नींद लेने के बावजूद भी आप थका-थका महसूस करते हैं? क्या एक्सरसाइज और सही डाइट लेने के बाद भी आप फ्रेश फील नहीं करते? बहुत से लोगों का इस पर जवाब हां होगा अगर आपको भी ऐसा होता है या दिन भर आराम करने के बावजूद भी सिर भारी रहता है या फिर आपको थकान और स्ट्रेस रहता है तो आपको गंभीर बीमारी हो सकती है जिसका इलाज आपको जल्द ही करना चाहिए। 

हो सकते हैं क्रोनिक फेटीग सिंड्रोम के शिकार

अगर आपकी बॉडी में यह बदलाव दिखाई दे रहे हैं तो आप क्रोनिक फेटीग सिंड्रोम के शिकार हो सकते हैं। यह एक ऐसा सिंड्रोम है जिसके कारण आपको लगातार थकान हो सकती है। ऐसी स्थिती उन लोगों में ज्यादा देखने को मिलती है जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। इसके कारण आप हमेशा थके थके रहते हैं और आपका किसी भी काम में मन भी नहीं लगता है। 

आराम करने से भी नहीं होता हल 

क्रोनिक फेटीग सिंड्रोम के कारण आपको शारीरिक थकान के साथ-साथ मानसिक थकान भी रहती है। आप लगातार थकान महसूस करते हैं और आप चाहे जितना भी आराम कर लें लेकिन आप फ्रेश फील नहीं कर पाते हैं। इसी सिंड्रोम की यही समस्या है और यह आपको 6 महीने तक रह सकती है। जब आपको शारीरिक और मानसिक थकान होने लगता है तो आपके शरीर की स्थिती बिगड़ जाती है। 

क्रोनिक फेटीग सिंड्रोम के लक्षण

1. थकान होना

2. लगातार सिरदर्द होते रहना

3. मांसपेशियों में दर्द 

4. काम न करने के बावजूद भी बीमार और थका महसूस करना

5. जोड़ों में दर्द की समस्या होना

6. नींद न आना

7. सोने के बाद भी आलस लगना

8. याददाश्त का कमजोर होना

क्रोनिक फेटीग सिंड्रोम के कारण

1. कईं बार वायरल इंफेक्शन फैलाने वाले बैक्टीरिया भी इस सिंड्रोम का कारण बन सकते हैं। यही कारण है कि कई बार वायरल इंफेक्शन के बाद आपको लंबे समय तक थकान होती है।

2. हार्मोन्स का अंसतुलन होना भी कईं बार इस बीमारी का कारण बन सकता है। ऐसे में यह समस्या और भी गंभीर हो सकती है।

3. कईं बार मनोवैज्ञानिक समस्याएं भी हो जाती हैं जैसे कि तनाव होना। 

कब दिखाएं डॉक्टर को?

आपको बता दें कि अगर आपकी बॉडी में 6 महीने से ज्यादा यह समस्या दिखाई दे रही है तो आप बिना देरी किए डॉक्टर की सलाह लें और जांच कराएं। एक बात का खास ख्याल रखें कि बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी दवा का सेवन न करें।

अब जान लीजिए इसका इलाज 

1. विटामिन-डी का करें सेवन

विटामिन डी आपके शरीर के लिए बहुत जरूरी होता है। कईं बार यह समस्या इस विटामिन की कमी के कारण भी होता है। इसलिए अगर आपको यह समस्या हो रही है तो ऐसा हो सकता है कि आपमें विटामिन डी की कमी हो। आपके शरीर में अगर विटामिन डी पूरा होगा तभी आपके शरीर में ऊर्जा रहेगी। इसलिए आप विटामिन डी का भरपूर सेवन करें। 

डाइट में शामिल करें ये चीजें

. अंडे 

. दही 

. दूध 

. टोफू 

. मशरूम 

. ऑरेंज जूस

. पालक 

. सार्डिन मछली 

. पनीर

. सोयाबीन 

. धूप में बैठे

2. पूरी नींद ले 

कईं बार इस सिंड्रोम का कारण पूरी नींद न लेना भी होता है। कुछ लोग पूरा दिन काम करते हैं और रात को देर से सोते हैं लेकिन नींद बस 4-5 घंटे की लेते हैं ऐसे में शरीर में थकावट बनी रहती है इसलिए इससे निपटने के लिए आप पूरी नींद लें। 

इसलिए पूरी नींद लें। 

पूरी नींद लेने के लिए करें ये काम 

.  चेरी खाए इससे आपको अच्छी नींद आएगी

. दूध पीएं इससे आपका तनाव भी कम होगा

. अपनी डाइट में केला एड करें

.  बादाम खाएं

. रात को सोने से पहले तलवे पर सरसो के तेल की मालिश करें

. सकारातमक सोच रखें और तनाव कम लें

3. डाइट को रखें सही 

अगर आप इस सिंड्रोम से बचना चाहते हैं और खुद को फिट रखना चाहते हैं तो आप अपनी डाइट सही रखें। तला हुआ कम खाएं और हेल्दी फूड को शामिल करें।

4. एक्सरसाइज करना न छोड़ें 

शरीर को एक्टिव रखने के लिए और ऊर्जा को बनाए रखने के लिए आप रोज एक्सरसाइज करें। एक्सरसाइज करने के पहले दिन आपको थकान जरूर महसूस होगी लेकिन धीरे-धीरे इससे आपका शरीर एक्टिव हो जाएगा।

5. करें योगा 

आप योगा भी कर सकते हैं। बालासन, सेतुबंध सर्वांगासन, शिरासन, विपरीत करणी आसन करने से राहत मिलती है। रोजाना करीब आधा घंटा ध्यान लगाना भी इसमें फायदेमंद होता है। अनुलोम विलोम और प्राणायाम से भी इस बीमारी में आराम मिलता है।