द ग्रेट राजा मास्टर ड्रामा कम्पनी का प्रभावपूर्ण मंचन


लखनऊ। आस्था नाट्य कला रंगमण्डल समिति, लखनऊ के तीन दिवसीय नाट्य समारोह के अन्तर्गत तृतीय संध्या में मदद एजूकेशनल एण्ड वेलफेयर सोसाईटी के बैनर तले दिनेश भारती द्वारा लिखित हास्य नाट्क ”द ग्रेट राजा मास्टर ड्रामा कम्पनी” का नाट्य मंचन नाट्य निर्देशिका निशा बेगम के निर्देशन में सायंकाल 6ः30 बजे से बाल्मीकि रंगशाला,उ०प्र० संगीत नाट्क अकादमी गोमती नगर, लखनऊ में भारत सरकार संस्कृति मंत्रालय (संस्कृति विभाग) नई दिल्ली के सहयोग से मंचित किया गया। कथानक के अनुसार ‘द ग्रेट राजा मास्टर ड्रामा कम्पनी‘ परिस्थिति जन्य हास्य नाटक, जो दशर्कों को महज गुदगुदा ही नहीं बल्कि ठहाके मारे हँसने के लिए मजबूर कर देता है। एक टेलिरिंग की दुकान चलाने वाले “राजा मास्टर “ के दिमाग में यह फितूर घर कर गया कि टेलिरिंग के काम से ज्यादा फायदा ड्रामा कं० चलाने में है, इस काम में पैसा तो है ही इज्ज़त और शोहरत भी है फिर क्या था राजा मास्टर ने अपनी दुकान से टेलरिंग का बोर्ड हटा कर ”द ग्रेट राजा मास्टर ड्रामा कम्पनी” का बोर्ड लगा दिया। उसके असिस्टेंट दिलेनादां ने एक निहायत वाहियात और ऊलजलूल स्क्रिप्ट लिखी, नाटक का नाम रक्खा “शहजादा सलीम उर्फ डाकू सुलेमान“। अखबार नबीस को बुलाकर राजा मास्टर ने नाटक के बारे में बड़ी तफसील से अहमकाना जानकारी दी, जगह-जगह इश्तहार लगाये गये और अड़ोस-पड़ोस के नाकारा लोगो को इकट्ठा करके जैसे तैसे रिहर्सल की शुरूआत हुयी उसी के साथ मानो दुश्वारियों का दौर शुरू हो गया, शो वाले दिन और शो के दरम्यान जो हालात पेश आए उन्होंने राजा मास्टर को पूरी तरह घनचक्कर बना कर रखा दिया और उनकी समझ में यह बात अच्छी तरह आ जाती है कि हर काम करना हर किसी के वस का का नहीं होता। मंच पर राजा मास्टर की भूमिका में ए०एम० अभिषेक, दिलेनादा की भूमिका में मोहित यादव, प्रेस रिपोर्टर की भूमिका में शोभित वर्मा, गाजार गाजीपुरी की भूमिका में अरूण विश्वकर्मा नता, महेन्गुआ की भूमिका में अशोक लाल, चम्पाकली की भूमिका में अमृता गुप्ता, चम्पाकली की अम्मा की भूमिका में रिया तिवारी, मेकअप मैन की भूमिका में मो० मुस्तकीम सलमानी ने बेहतरीन अभिनय किया। मंच परे संगीत निर्देशन प्रदीप मित्रा एवं स्वपनिल अग्रवाल, प्रकाश तमाल बोस एवं सपन बोस, रूप सज्जा निषा बेगम, सेट संजय त्रिपाठी एवं दीपक अग्रवाल का था। सम्पूर्ण दृश्य परिकल्पना एवं निर्देशन निशा बेगम का था।