बंद खरीद केंद्र में डंप क्विंटलों धान बर्बाद


बांदा। नरैनी खरीद केंद्र बंद करने से धान उत्पादक किसान संकट में आ गए हैं। किसानों ने सैकड़ों क्विंटल धान केंद्र परिसर मंडी समिति में डंप कर दिया है। पिछले एक माह से रखे धान को पशु और बंदर क्षतिग्रस्त कर रहे हैं। भारी मात्रा में फटे बोरों से गिरा धान इधर-उधर बिखर गया है। बिल्हरका, करतल, बाबूपुर, पंचमपुर, रामपुर गांव आदि के किसानों के लिए करतल स्थित मंडी समिति में क्रय केंद्र खोला गया था। यहां संन्यासी फार्मर एग्रीकल्चर धान खरीद रही थी। हाल ही में जिले में बंद किए गए 30 प्राइवेट खरीद केंद्रों में करतल का केंद्र भी शामिल है। मंडी के टिनशेड चबूतरों पर रखे धान के बोरे जानवर और बंदर क्षतिग्रस्त कर रहे हैं। क्विंटलों धान बिखरकर बर्बाद हो रहा है। बाबूपुर के किसान प्रकाश नारायण, बिल्हरका के बलबीर सिंह, करतल के राजेश शुक्ला आदि ने बताया कि मंडी समिति में खुला दूसरा केंद्र उनकी उपज नहीं खरीद रहा। उधर, खरीद केंद्र प्रभारी अरुणोदय कुमार ने बताया कि विभागीय अफसरों के आदेश पर खरीद शुरू की जाएगी।