सीरम इंस्टीट्यूट की बड़ी कामयाबी, अक्टूबर तक आ जाएगी बच्चों की कोरोना वैक्सीन

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

भारत में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम शुरू हो गया था, जिसके पहले चरण में करीब हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाया गया था। शुरूआत में कुछ साइड-इफैक्ट्स आने की वजह से कहा जा रहा था कि प्रेगनेंट महिलाओं, किसी बीमारी से ग्रस्त लोग, ऑटो-इम्यून डिसीज और बच्चों को वैक्सीन नहीं दी जाएगी। बच्चों के लिए अभी तक कोई कोरोना वैक्सीन नहीं आई है लेकिन हाल ही में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने एक खुशखूबरी दी है कि बच्चों के लिए भी जल्द ही कोरोना वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी।
अक्टूबर तक आएगी बच्चों की कोरोना वैक्सीन
सीरम इंस्टीट्यूट ने कहा कि बच्चों के लिए भी कोरोना का टीका विकसित किया जा रहा है जो साल 2021 में अक्टूबर महीने तक तैयार कर लिया जाएगा। इसके बाद बच्चों को लगाया भी कोरोना टीका लगाया जाने लगेगा।
वैक्सीन को दवा बनाने की भी चल रही तैयारी
आयात-निर्यात निदेशक पीसी नांबियार ने खुद एक कार्यक्रम में इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि अक्टूबर तक बच्चों को भी कोरोना का टीका लगाया जाएगा। संभावना है कि वैक्सीन साल के आखिरी महीने तक बनकर तैयार हो जाएगी, जो बच्चों को उनके जन्म के एक महीने के अंदर लगाई जाएगी। यही नहीं, इस वैक्सीन को दवा बनाने की भी तैयारी चल रही है, ताकि कोरोना संक्रमित बच्चों को बचाया जा सके।
क्लीनिकल ट्रायल के लिए कंपनी ने मांगी अनुमति
फिलहाल सीरम इंस्टीट्यूट कोरोना के 4 वैक्सीन पर काम कर रही है, जिसमें से एक टीके के लिए उन्होंने भारतीय दवा नियामक ,से तीसरे क्लीनिकल ट्रायल की अनुमति मांगी है।
बच्चों को क्यों नहीं दी गई थी वैक्सीन
दरअसल, कोरोना वैक्सीन के कई साइड-इफैक्ट्स सामने आए थे, जिसके चलते टीनएज बच्चों को वैक्सीन नहीं दी गई थी। फिलहाल बच्चों पर वैक्सीन के असर को लेकर कई तरह की स्टडी की जा रही हैं।
इन लोगों को भी नहीं लगेगी वैक्सीन
1. उम्र, हैल्थ कंडीशन के हिसाब से कमजोर इम्यूनिटी, लंग्स व हार्ट मरीज, प्रेग्नेंट महिलाओं को वैक्सीन नहीं लगेगी। जो महिलाएं अगले 2 से 3 महीने में कंसीव करना चाहती हैं उन्हें भी नहीं।
2. जिन्हें पिछले टीकों से एलर्जी की शिकायत हुई हो उन्हें भी वैक्सीन नहीं लगेगी। यह वैक्सीन उन लोगों के लिए काम करती है जो कोरोना की हाई रिस्क जोन में है। मगर, जिन लोगों का किसी अन्य बीमारी के कारण इम्यून सिस्टम रिस्पांस नहीं करता उन्हें वैक्सीन नहीं दी जाएगी।
1-2 घंटे में ठीक हो जाते हैं वैक्सीन के साइड इफेक्ट
एक्सपर्ट का कहना है कि कोरोना वैक्सीन के बाद कई तरह की समस्याएं आती हैं लेकिन यह स्थाई नहीं है। वहीं, वैक्सीन के साइड-इफैक्ट 1-2 घंटे में खुद ब खुद ठीक हो जाते हैं। अगर आपको सीवियर एलर्जिक, ओटोइम्यून डिसीज या कोई और समस्या है तो डॉक्टर को पहले ही उस बारे में बता दें।