एलयू के फरमान से परेशान छात्रों ने दिया धरना


लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय के एक आदेश ने सैकड़ों छात्र-छात्राओं को टेंशन में डाल दिया। विश्वविद्यालय ने पहले तो एमए योग पाठ्यक्रम में पुराने परिसर में छात्र छात्राओं के दाखिले ले लिए, लेकिन फरमान जारी कर दिया इन छात्र-छात्राओं की कक्षाएं नए परिसर में लगेंगी। इस बात से नाराज छात्र छात्राएं सोमवार को कुलपति से मिलने पहुंचे। बात न बनने पर सभी छात्र-छात्राएं गेट नंबर एक के पास सरस्वती प्रतिमा पर धरने पर बैठ गए। खबर से एलयू प्रशासन के हाथ पांव फूल गए। योग फैकल्टी के इंचार्ज प्रो नवीन खरे मौके पर पहुंचे और छात्र-छात्राओं को समझाने का प्रयास किया।

छात्र छात्राओं का कहना है कि दाखिला लेते समय या नहीं बताया गया था कि कक्षाएं दूसरे परिसर में लगाई जाएंगी। कोई राजाजीपुरम में रहता है तो कोई एयरपोर्ट के पास ऐसे में न्यू केंपस में इतनी दूर योग की कक्षाएं अटेंड करना मुश्किल है। कक्षाएं ओल्ड कैंपस में ही पहले तो तरह संचालित की जाएं।  अपनी मांगों को लेकर छात्र-छात्राएं 3 दिन से विश्वविद्यालय के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन कुलपति से मुलाकात नहीं हो पा रही। सोमवार को फिर सुबह 11.30 बजे छात्र-छात्राएं प्रशासनिक भवन स्थित कुलपति के पास मिलने पहुंचे। छात्राओं का आरोप है कि बिना बताए क्लास 15 से 20 किलोमीटर दूर न्यू कैंपस में शिफ्ट कर दी गईं। जबकि हम सभी ने फीस ओल्ड कैंपस के लिए दी थी। अभिभावक भी इतनी दूर नहीं भेजेंगे। वहीं कुलपति ने मिलने गए थे, लेकिन बात न बनने सभी छात्र-छात्राएं गेट नंबर एक के पास सरस्वती प्रतिमा पर धरने पर बैठ गए। योग फैकल्टी के इंचार्ज प्रोफेसर नवीन खरे मौके पर पहुंचे। जहां उन्होंने समझा बुझाकर मामला शांत कराया। विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि मामला डीन एकेडमिक को भेजा गया है। वहीं 6 छात्रों ने कुलपति प्रोफेसर आलोक कुमार राय से पुराने परिसर में ही कक्षाएं लगाने की मांग की है।