अभिव्यक्ति की आजादी पर दुख जताते हुए बोले राहुल गांधी

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अभिव्यक्ति की आजादी का गला घोंटे जाने की घटनाओं पर दुख जताया और कहा है कि भारत चुप नहीं बैठेगा. दिशा रवि की गिरफ्तारी का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा है कि सत्ता में बैठे हुए लोग डरे हैं, देश नहीं डरा है. टूलकिट मामले में दिशा रवि की गिरफ्तारी से लेकर पत्रकार के खिलाफ साजिश पर उन्होंने प्रतिक्रिया देते हुए सोशल मीडिया पर ट्वीट किया है, "बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे.. बोल कि सच ज़िंदा है अब तक! वो डरे हैं, देश नहीं! India won't be silenced."

राहुल गांधी ने अपने ट्वीट के साथ तीन खबरों की क्लिपिंग भी साझा की है. पहली खबर में दिशा रवि की गिरफ्तारी की हो रही चहुंओर निंदा का उल्लेख किया गया है. दूसरी खबर में एक पत्रकार को एक यूट्यूबर द्वारा फांसी देने की धमकी का जिक्र है, जिसे बीजेपी ने सोशल मीडिया पर फैलाया था. राहुल द्वारा साझा की गई तीसरी खबर कर्मचारियों द्वारा सरकार की आलोचना किए जाने पर उसे जेल भेजे जाने की धमकी से जुड़ी है.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी इसी मामले को लेकर सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया, ‘‘डरते हैं बंदूकों वाले एक निहत्थी लड़की से, फैले हैं हिम्मत के उजाले एक निहत्थी लड़की से.''

टूलकिट मामले में दिल्ली पुलिस ने बेंगलुरु की जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि को शनिवार को गिरफ्तार किया था. रविवार को दिल्ली की एक अदालत ने दिशा को पांच दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया. दिशा पर दिल्ली पुलिस ने देशद्रोह का आरोप लगाया है. पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने भी दिशा की गिरफ्तारी की आलोचना की है और कहा है कि माउंट कार्मेल कॉलेज की छात्रा और जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि राष्ट्र के लिए खतरा बन गई है, तो इसका मतलब है कि भारत बहुत ही कमजोर नींव पर खड़ा है.

पुलिस ने आरोप लगाया कि भारत के खिलाफ वैमनस्य फैलाने के लिए रवि और अन्य ने खालिस्तान-समर्थक समूह ‘पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन' के साथ साठगांठ की . दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी दिशा की गिरफ्तारी को लोकतंत्र पर हमला करार दिया है. उन्होंने कहा है कि किसानों का समर्थन करना अपराध नहीं हो सकता है. बता दें कि दिशा रवि ने किसान आंदोलन के समर्थन में उस टूलकिट को एडिट किया था, जिसे जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने सोशल मीडिया पर शेयर किया था.