गोद लिए क्षय रोगी बच्चों से मिलेंगी राज्यपाल, अभियान की समीक्षा आज

-वर्ष 2021 में क्षय रोग पीड़ित 34 बच्चे लिए जा चुके हैं गोद

मथुरा।राज्यपाल आनंदी बेन पटेल स्वास्थ्य विभाग द्वारा गोद दिए जा रहे क्षय रोगी बच्चों से 23 फरवरी (आज) मिलेंगी। उनका हालचाल जानेंगी। इस अभियान की समीक्षा भी करेंगी। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ संजीव यादव ने बताया कि राज्यपाल द्वारा की जाने वाली समीक्षा की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रचना गुप्ता व अन्य अधिकारी कार्यक्रम को अंतिम रूप दे चुके हैं। यह समीक्षा बैठक वेटरिनरी विश्वविद्यालय के किसान सभागार में होगी। इसके अलावा पश्चिमी उत्तर प्रदेश के समस्त जनपदों की रेडक्रास  सोसायटी के पदाधिकारियों की बैठक भी राज्यपाल लेंगी और उन्हें दिशा निर्देश देंगी। 
जिलाधिकारी नवनीत चहल ने सोमवार को 17 वर्षीय क्षय रोगी बालिका को गोद लेकर  स्वस्थ होने तक उसकी देखभाल करने का संकल्प लिया। जिलाधिकारी ने बालिका  को पौष्टिक आहार की एक किट और दवाइयां प्रदान की। उसके परिजनों से भी मुलाकात की।
राज्यपाल आनंदी वैन पटेल के आह्वान पर वर्ष 2021 में जनपद मथुरा में 18 वर्ष से कम उम्र के 34 बच्चों को गोद लिया जा चुका है। उन्होने कहा कि उनके द्वारा  स्वयं यह सुनिश्चित किया जायेगा कि क्षय रोगी को पौष्टिक आहार समय से मिले तथा बच्चा समय से क्षय रोग की दवाई खाता रहे। प्रधानमंत्री भारत सरकार द्वारा समस्त क्षय रोगियों को निःक्षय पोषण योजना के अन्तर्गत 500 की धनराशि प्रति माह दी जा रही है ।
इस मौके पर जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ संजीव यादव ने बताया कि उनके द्वारा जनपद मथुरा के समस्त विभागों में कार्यरत अधिकारियों, कर्मचारियों एवं समाज के विभिन्न व्यक्तिओं, स्वयंसेवी संगठन, कालेज व महाविद्यालयों की प्रबंध समितियों  अपील है कि सभी आगे बढ़कर क्षय रोग विभाग से समन्वय स्थापित करते हुये अपने क्षेत्र से कम से कम एक क्षय रोगी को गोद ले, जिससे कि यह सुनिश्चित किया जा सके कि क्षय रोगी द्वारा समय से पौष्टिक आहार के साथ-साथ क्षय निरोधी औषधियों की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी 2025 तक क्षय रोग को भारत से उन्मूलन करने के लक्ष्य को प्राप्त करने के संकल्प ले चुके हैं।