जनपद में 01 से 31 मार्च तक संचालित होगा संचारी रोग नियंत्रण अभियान

बहराइच । जनपद में 01 से 31 मार्च तक संचालित होने वाले संचारी रोग नियंत्रण अभियान व 10 से 24 मार्च 2021 तक संचालित होने वाले दस्तक अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए जनपद स्तरीय अन्तर्विभागीय समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी शम्भु कुमार ने कहा कि संचारी रोगों का प्रभावी नियंत्रण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सर्वोच्च प्राथमिकता है। शासन की शीर्ष प्राथमिकता के मद्देनज़र अभियान में शामिल सभी विभाग 01 माह तक संचालित होने वाले संचारी रोग नियंत्रण अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए प्रभावी कार्ययोजना तैयार कर लें। उन्होंने निर्देश दिया कि आमजन में इस बात का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार भी किया जाय कि संचारी रोग से पीड़ित होने पर कदापि छोलाझाप चिकित्सकों के चक्कर में न पड़ते हुए सरकारी चिकित्सालयों से सम्पर्क कर समुचित उपचार करायें।  

जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए सभी सम्बन्धित विभाग कार्ययोजना तैयार करने में किसी प्रकार की शिथिलता न बरतें। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया कि संचारी रोगों के नियंत्रण/पर्यवेक्षण के लिए कन्ट्रोल रूम की स्थापना कर किसी सक्षम अधिकारी की तैनाती भी की जाय ताकि संचारी रोगों के नियंत्रण के सम्बन्ध में आमजन से प्राप्त होने वाले सुझावों एवं शिकायतों के सम्बन्ध में तत्काल प्रभावी कार्यवाही भी की जा सके। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि कन्ट्रोल रूम के माध्यम से सम्पूर्ण अभियान के प्रभावी संचालन की कार्यवाही के साथ-साथ फीड बैक प्राप्त करने का भी कार्य किया जाय। 

जिलाधिकारी ने नगर पालिका परिषद व नगर पंचायतों के अधिशासी अधिकारियों तथा जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिया कि संचारी रोगों के प्रभावी नियंत्रण के लिए शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में साफ-सफाई के विशेष प्रबन्ध किये जायें साथ ही आमजन की जागरूकता के लिए जगह-जगह पर नारे एवं स्लोगन की राईटिंग भी करायी जाय। उन्होंने संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए निराश्रित पशुओं विशेषरूप से सुअरों एवं कुत्तों के स्वच्छन्द विचरण पर भी प्रभावी अंकुश लगाये जाने की बात कही। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया कि अभियान अवधि के दौरान लोगों को स्वच्छ भारत अभियान के प्रति भी जागरूक किया जाय ताकि लोग खुले में शौच करने से परहेज़ करें। 

अभियान के प्रति जनजागरूकता के लिए जिलाधिकारी ने आॅगनबाड़ी केन्द्रों, विद्यालयों एवं मेडिकल की दुकानों के माध्यम से जन-जागरूकता बैनर्स का प्रदर्शन कराये जाने का निर्देश दिया। जनपद में स्थित जल स्रोतों की समुचित साफ-सफाई के दृष्टिगत सभी सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिया गया कि हैण्डपम्पों के चबूतरों, पाईप लाइन पेयजल परियोजनाओं की लीकेज, तालाबों, पोखरों एवं कुओं इत्यादि को विसंक्रमित करने की कार्यवाही कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि अभियान की जनजागरूकता के लिए नेहरू युवा केन्द्र के माध्यम से नुक्कड़ नाटक इत्यादि भी कराये जायें। जिलाधिकारी ने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिया कि संचारी रोगों के नियन्त्रण के सम्बन्ध में की जाने वाली कार्यवाही का जिला सूचना कार्यालय के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार भी करायें।

अभियान के दौरान वेक्टर नियंत्रण, साफ-सफाई, कचरा निस्तारण, जल भराव रोकने तथा शुद्ध पेयजल उपलब्धता, विद्यालयों में संवेदीकरण तथा जनसंवाद द्वारा जागरूकता उत्पन्न करने इत्यादि की गतिविधियों पर विशेष ज़ोर दिया जायेगा। बैठक के दौरान डी.एम. ने कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्य की भी समीक्षा करते हुए सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

इस अवसर पर संयुक्त निदेशक प्रशासन डाॅ. ए.के. राय, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ. राजेश मोहन श्रीवास्तव, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डाॅ. बलवन्त सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक राजेन्द्र कुमार पाण्डेय, जिला कार्यक्रम अधिकारी जी.डी. यादव, जिला पंचायत राज अधिकारी उमाकान्त पाण्डेय, दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी ए.के गौतम, जिला उद्यान अधिकारी पारसनाथ, अधि.अधि. न.पा.परि. बहराइच पवन कुमार, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डाॅ. बी.पी. वर्मा, खण्ड शिक्षा अधिकारी पयागपवुर उपेन्द्र त्रिपाठी, अपर मुख्य चिकित्साधिकारीगण व अन्य सम्बन्धित लोग मौजूद रहे।