सब्जी-फल की खेती से दूर होगा कुपोषण


बांदा। कृषि विवि में पोस्ट हार्वेस्ट टेक्नोलाजी विभाग द्वारा किसानों की आय दोगुनी के लिए कृषि उत्पादों का फसलोत्तर प्रबंधन एवं मूल्य संवर्धन विषय पर 7 दिवसीय प्रशिक्षण शुरू हो गया। कुलपति डॉ. यूएस गौतम ने कहा कि सब्जी और फलों का उत्पादन और उपभोग दोनों कम है। गर्भवतियों व नवजात शिशुओं को कुपोषण से बचाने के लिए ताजे फलों और सब्जियों की वर्ष भर खेती की जा सकती है। कार्यक्रम अध्यक्ष डॉ. एसवी द्विवेदी ने प्रसंस्करण से आय दोगुनी करने की सलाह दी। 

विभागाध्यक्ष पोस्ट हार्वेस्ट टेक्नालाजी डॉ. प्रिया अवस्थी, समन्वयक डॉ. विज्ञा मिश्रा, डॉ. अखिलेश कुमार मिश्रा, डॉ. अजय कुमार सिंह, डॉ. राजेश कुमार सिंह, डॉ. ओमप्रकाश, डॉ. राकेश कुमार, डॉ. कृष्ण सिंह तोमर, डॉ. दिनेश कुमार गुप्ता, डॉ. विशाल चुंग, डॉ. निधिका ठाकुर सहित छात्र-छात्राएं मौजूद रहे। उधर, कृषि विवि में उद्यमिता स्वरोजगार का साधन विषय पर 10 दिवसीय प्रशिक्षण 3 फरवरी से शुरू होगा। मशरूम यूनिट प्रभारी डॉ. दुर्गा प्रसाद ने बताया कि प्रशिक्षण में मशरूम व्यवसाय से संबंधित सभी पहलुओं प्रशिक्षण दिया जाएगा।