गाजीपुर बॉर्डर : राकेश टिकैत से मिले सिसोदिया


नई दिल्ली: केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन चल रहा है. आज दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे और किसान नेता राकेश टिकैत से मुलाकात की. साथ ही दिल्ली सरकार की ओर से की गई पानी की व्यवस्था का जायजा लिया. सिसोदिया ने इस दौरान कहा कि मुझे सीएम अरविंद केजरीवाल ने भेजा है. कल रात आपकी बात हुई थी तो पानी की सप्लाई की गई. 

डिप्टी सीएम सिसोदिया ने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा है और कोई ज़रूरत हो तो हम तैयार हैं. उन्होंने कहा कि पेट इंटरनेट से नहीं, रोटी से भरता है. आज कुछ पूंजीपतियों के दबाव में किसान को गद्दार कहा जा रहा है. जिस सरदार को कट्टर देशभक्त माना जाता है उसको गद्दार कहा जा रहा है.

मनीष सिसोदिया ने कहा कि कल मुख्यमंत्री जी से राकेश टिकैत जी की बात हुई थी. उन्होंने कहा था कि पानी की दिक्कत हो रही है, तो हमने यहां पानी की व्यवस्था की है. मैं इसी का निरीक्षण करने आया था. हमारी तरफ से किसानों को पूरा समर्थन है और यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि जो किसान देश को रोटी देता आया उसको हिंसक कहा जा रहा है. देशभक्त कौम सरदार को पहली बार गद्दार कहा जा रहा है टिकैत साहब को गद्दार कह रहे हैं.

केंद्र पर निशाना साधते हुए सिसोदिया ने कहा कि पूंजीपतियों के हाथों ऐसी क्या इनकी नस दबी हुई है कि यह किसानों की बात ना सुनकर पूंजीपतियों की बात सुन रहे हैं. सरकार कह रही है कि बिल किसानों के पक्ष में हैं. किसान कह रहे हैं कि हमारे पक्ष में नहीं है तो ऐसे में सरकार को कानून वापस ले लेना चाहिए. वहीं, किसान नेता राकेश टिकैत ने मनीष सिसोदिया का धन्यवाद किया कि उन्होंने पानी की व्यवस्था कराई. टिकैत के मुताबिक, सिसोदिया ने कहा कि मैं मंच पर नहीं जाऊंगा क्योंकि आपका आंदोलन गैर राजनीतिक है.