प्रेगनेंसी में क्यों जरूरी आयरन? शरीर में कमी नहीं होने देगी ये चीजें


अक्सर देखा जाता है कि प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में आयरन की कमी हो जाती है। इसके कारण महिलाओं को सिरदर्द, चक्कर आना, खून की कमी जैसी प्रॉब्लम्स झेलनी पड़ती है, जो सही नहीं है। यही वजह है कि डॉक्टर भी इस दौरान आयरन सप्लीमेंट्स लेने की सलाह देते हैं। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि प्रेगनेंसी में क्यों और कितनी मात्रा में लेना जरूरी है आयरन...
क्यों जरूरी है आयरन?
लाल रक्त कोशिकाओं में मौजूद आयरन ऑक्सीजन प्रवाह करने वाला एक तरह का प्रोटीन होता है, जो हीमोग्लोबिन बनाने के लिए भी जिम्मेदार होता है।
प्रेगनेंसी में क्यों जरुरी आयरन?
. प्रेगनेंसी में महिलाओं को 50% से अधिक खून की जरूरत होती है लेकिन आयरन की कमी एनीमिया की वजह बन सकती है। सर्वे के अनुसार, करीब10 में से 6 गर्भवती महिलाएं एनीमिया से पीड़ित हैं।
. इसकी कमी से भ्रूण के मस्तिष्क विकास में बाधा आ सकती है और उसका वजन भी समान्य से कम हो सकता है।
. इसके कारण सांस लेने में परेशान और थकान की समस्या हो सकती है। साथ ही इससे शिशु और मां को कमजोरी हो सकती है। वहीं, इससे प्रीमैच्योर डिलीवरी की संभावना भी बढ़ जाती है।
आयरन की कमी के लक्षण
. कमजोरी व चक्कर आना
. तेज सिरदर्द
. बहुत ज्यादा थकान
. सांस लेने में दिक्कत
. नाखून, आखों या होठों में पीलापन
प्रेगनेंसी में आयरन की कितनी मात्रा जरूरी?
प्रेग्नेंट महिला को रोजाना 30 मि.ग्रा. आयरन की जरूरत होती है। वहीं, एनीमिया से ग्रस्त गर्भवती महिलाओं को रोज 120 मि.ग्रा. आयरन सप्लीमेंट लेने चाहिए लेकिन डॉक्टर की सलाह से।
कैसे पूरी करें आयरन की कमी?
1. शरीर में आयरन की कमी पूरी करने के लिए राजमा, ब्राउन राइस, पालक, चुकंदर का जूस, बथुआ, पुदीना, संतरे का जूस, मूंगफली, नारियल, दालें, मूली के पत्ते, हरा प्याज, अनार, जामुन, अंगूर, आलूबुखारा, मीट-मछली अधिक खाएं।
2. खाने बनाने के लिए लोहे की कढ़ाई या बर्तनों का इस्तेमाल करें क्योंकि इससे भी भोजन में कुछ आयरन की मात्रा मिक्स हो जाती है।
3. कैफीन का कम से कम सेवन करें क्योंकि इनमें मौजूद फेनोल्स आयरन अवशोषण में बाधा डालता है।
4. डाइट में विटामिन सी युक्त फूड्स जैसे संतरा, ब्रोकली, स्ट्राबेरी आदि लें जो आयरन अवशोषण को बढ़ाता है।
5. अगर डाइट से शरीर में आयरन की कमी पूरी ना हो तो आप गोलियां भी ले सकती है लेकिन पहले डॉक्टर से सलाह लें।
6. रोजाना तुलसी की 8-10 पत्तियां खाने से भी शरीर को सभी तत्व मिलेंगे और वो निरोग रहेगा।
अधिक मात्रा में सेवन हानिकारक
ध्यान रखें कि आयरन की संतुलित मात्रा ही लें क्योंकि इसका अधिक सेवन करने से मतली, कब्ज, जेस्टेशनल डायबिटीज, हार्मोन्स असंतुलन, प्रीक्लैंसिया, गर्भपात हो सकता है।
सीबीसी जांच जरुरी
खून में आयरन की कमी का पता लगाने के लिए सीबीसी (कम्पलीट ब्लड काउंट) जांच जरूर करवाएं। इससे हीमोग्लोबिन के स्तर का भी पता चल जाएगा।
याद रखें कि प्रेगनेंसी में आयरन बहुत जरूरी है इसलिए कंसीव करने से पहले ही शरीर में आयरन की कमी और एनीमिया की परेशानी दूर कर लें।

posted by -दीपिका पाठक