कोरोना के बाद अब बढ़ रहा बर्ड फ्लू का प्रकोप, इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज


दुनिया के तमाम देश अभी भी कोरोना वायरस से जंग नहीं जीत पाए हैं। इस वायरस ने अभी भी लोगों की नाक में दम करके रखा है। इसकी वैक्सीन की तो कईं खबरें आ रही हैं लेकिन अभी पूरी तरह से इससे आजादी नहीं मिल पाई है। कोरोना के कहर के बीच अब लोगों के सामने एक और परेशानी खड़ी हो गई है। दरअसल अब देश में बर्ड फ्लू के मामले तेजी से रफतार पकड़ रहे हैं। 

बढ़ते मामलों के बीच अलर्ट हुआ जारी 

बर्ड फ्लू के बढ़ते मामले लोगों की चिंता बढ़ा रहे हैं। मध्य प्रदेश, राजस्थान, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के साथ ही केरल भी बर्ड फ्लू की चपेट में आ गए हैं। इतना ही नहीं सैकड़ों पक्षियों की इससे मौत भी हो गई है। इससे बचाव के लिए अब राज्य सरकारों ने अलर्ट भी जारी कर दिया है ताकि स्थिती पर काबू पाया जा सके। बताया यह भी जा रहा है कि एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस से होने वाली इस बीमारी से सिर्फ पक्षी ही नहीं, मनुष्य भी प्रभावित हो सकते हैं। ऐसे में सावधानी को देखते हुए  हिमाचल प्रदेश में मछली, मुर्गे व अंडों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

इंसानों के लिए भी बहुत खतरनाक 

आपको बता दें कि बहुत से लोग इसी आंशका में हैं कि बर्ड फ्लू है तो इसकी चपेट में सिर्फ पक्षी आएंगे लेकिन ऐसा नहीं है। इसकी चपेट में जानवर व इंसान भी आ सकते हैं। दरअसल अगर कोई जानवर या फिर इंसान संक्रमित पक्षियों के संपर्क में आ जाए तो वह भी संक्रमित हो जाते हैं और इससे मौत तक हो सकती है। 

इन लोगों को संक्रमण का खतरा अधिक

बर्ड फ्लू का सबसे अधिक खतरा तो उन्हें होता है जो मुर्गी पालन से जुड़े हैं लेकिन बताया यह भी जा रहा है कि जो लोग अंडा खाते हैं या फिर कच्चा या अधपका चिकन खाते हैं उनमें भी इसका खतरा अधिक होता है। 

क्या हैं इसके लक्षण? 

डॉक्टर्स और माहिरों की मानें तो बर्ड फ्लू के लक्षण इस प्रकार होते हैं। 

1. खांसी होना 

2. सीने में दर्द 

3. ठंड लगना

4. तेज बुखार होना 

5. जोड़ों में दर्द की समस्या 

6. मांसपेशियों में दर्द होना 

7. नाक से खून बहना 

8. नाक बहना 

9. थकान होना

10. सिरदर्द होना 

11. डायरिया होना 

12. बेचैनी जैसी समस्या

13. उल्टी होना

कैसे फैलता है फ्लू?

प्राकृतिक रूप से देखा जाए तो यह फ्लू पक्षियों में होता है लेकिन ये पालतू मुर्गियों में आसानी से फैल जाता है। ये संक्रमित पक्षी के मल, नाक के स्राव, मुंह के लार या आंखों से निकलने वाली पानी के संपर्क में आने से होता है। संक्रमित मुर्गियों के 165-एफ पर पकाए गए मांस या अंडे के सेवन से बर्ड फ्लू नहीं फैलता है लेकिन संक्रमित मुर्गी के अंडों को कच्चा या उबालकर नहीं खाना चाहिए। 

कैसे करें बचाव

1. चिकन या अंडा न खाएं

2. जितना हो सके पक्षियों से दूर रहें

3. समय-समय पर हाथ धोएं

4. वहां न जाएं जहां यह ज्यादा फैला है 

posted by -दीपिका पाठक