योगी पर मुकदमों की सूचना देश की प्रभुता, अखंडता से जुड़ी


लखनऊ। एसएसपी गोरखपुर कार्यालय द्वारा एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर को दी गयी सूचना के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ दर्ज आपराधिक मुकदमों की सूचना देश की प्रभुता एवं अखंडता तथा राज्य की सुरक्षा आदि से जुड़ी हुई है। नूतन ने योगी आदित्यनाथ के खिलाफ दर्ज मुकदमों तथा प्रदेश सरकार द्वारा सीआरपीसी के प्रावधानों के अधीन वापस लिए गए मुकदमों से संबंधित सूचना मांगी थी। इस पर एसपी दक्षिणी गोरखपुर द्वारा दी गयी सूचना में कहा गया कि यह सूचना आरटीआई एक्ट की धारा 8 की उपधारा (क), (ख), (ज) तथा (ङ) में नहीं दी जा सकती है. उपधारा (क) देश की प्रभुता व अखंडता, राज्य की सुरक्षा, रणनीति, विदेशों से संबंध आदि से जुडी है, जबकि धारा (ख) न्यायालय द्वारा सूचना देने से रोक लगाए जाने संबंधित है. धारा (ज) अपराध की विवेचना तथा अपराधियों के पकडे जाने से संबंधित है जबकि धारा (ङ) वैश्वासिक नातेदारी के उपलब्ध करायी गयी सूचना से संबंधित है। नूतन ने कहा कि सत्यता यह है कि उनके द्वारा मांगी सूचना इनमे किसी भी उपधारा में निषिद्ध नहीं है किन्तु अफसरों द्वारा मात्र मुख्यमंत्री का मामला होने के कारण सूचना देने से मना कर दिया गया, जिसके संबंध में उनके द्वारा अपील की गयी है।