व्हाइट डिस्चार्ज से रहती हैं परेशान तो जान लीजिए घरेलू समाधान


ल्यूकोरिया यानि व्हाइट डिस्चार्ज महिलाओं को होने वाली एक ऐसी समस्या है, जिसमें गुप्तांग से चिपचिपा और बदबूदार सफेद पानी निकलता है। अगर पीरियड्स से कुछ दिन पहले व्हाइट डिस्चार्ज हो रहा है तो घबराने की बात नहीं है लेकिन अगर आपको यह समस्या लगातार हो रही है तो एक बार चेकअप करवा लें क्योंकि यीस्ट इन्फेक्शन का संकेत भी हो सकता है। हालांकि कई बार वैजाइना की ठीक से सफाई ना करने के कारण भी यह समस्या देखने को मिलती है।

ल्यूकोरिया के कारण
. यूरिन इंफैक्शन
. साफ-सफाई न करना
. अधिक संबंध बनाना
. बार-बार गर्भपात
. यीस्ट इन्फेक्शन के कारण
चलिए अब आपको बताते हैं व्हाइट डिस्टार्स से छुटकारा पाने के कुछ घरेलू उपाय...
अंजीर
4 अंजीर को धोकर उसे साफ पानी में रातभर भिगो दें। सुबह खाली पेट अंजीर को अच्छी तरह चबाकर खा लें और फिर पानी पी लें। रोजाना ऐसा करने से महीनेभर में आपकी सफेद पानी की समस्या दूर हो जाएगी।
भिंडी
व्हाइट डिस्चार्ज या सफेद पानी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए भिंडी का इस्तेमाल करें। सबसे पहले 100 ग्राम भिंडी को आधा लीटर पानी में डालकर अच्छे से उबाल लें और तब तक उबालते रहे जब तक की पानी आधा न रह जाए। पानी को ठंडा होने के बाद इसमें शहद मिलाकर पीएं।
अदरक
1 लीटर पानी में अदरक को अच्छी तरह उबाल लें। जब यह उबल कर आधा रह जाए तो इसका सेवन करें। इससे सफेद पानी की समस्या जल्दी दूर हो जाएगी।
खान-पान का रखें ख्याल
ल्यूकोरिया की वजह से शरीर में कमजोरी भी आ जाती है इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने खान-पान का ख्याल रकें। डाइट में मौसमी फल, हरी सब्जियां, दूध, दही, नट्स, मछली अंडे जैसी हेल्दी चीजें शामिल करें।
अमरूद की पत्तियां
अमरूद की पत्तियों को 1 गिलास पानी में तब तक उबालें जब तक यह आधा न रह जाए। इसके बाद ठंडा करके इसको दिन में दो बार पीएं। नियमित इसका सेवन करने से आपको कुछ समय में ही फर्क दिखाई देगा।
भुने हुए चने
भुने हुए चने को पीस कर इसमें थोड़ा-सा गुड़ मिला लें। फिर इसमें दूध और देसी घी मिलाकर रोजाना 2 चम्मच खाएं। इससे आपको आराम मिलेगा।
याद रखें कि व्हाइड डिस्चार्ज की समस्या में प्राइवेट पार्ट की सफाई का खास ख्याल रखें और पीरिड्यस के समय दिन में कम से कम 2 बार पैड बदलें। साथ ही प्राइवेट पार्ट से जुड़ी समस्याओं में लापरवाही ना बरतें क्योंकि इससे ही यूट्रस व ओवरी से जुड़े अन्य रोगों को बढ़ावा मिलता है।

posted by -दीपिका पाठक