Aus vs Ind 4th Test: ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए 5 विकेट पर 274 रन बनाए


Australia vs India 4th Test: गाबा में भारत के खिलाफ शुक्रवार को शुरू हुए निर्णायक चौथे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन मेजबान ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए 5 विकेट पर 274 रन बनाए. दिन की समाप्ति पर कैमरून ग्रीन 24 और कप्तान टिम पेन 34 रन बनाकर नाबाद हैं. दिन के खेल का आकर्षण लबुशेन का शतक रहा, जिन्होंने 108 रन की पारी खेली. उनके अलावा 45 रन बनाए, लेकिन वह निगाहें जमने के बाद आउट हो गए. भारत के लिए सबसे ज्यादा दो विकेट करियर का पहला टेस्ट खेल रहे टी. नटराजन ने लिए, जबकि मोहम्मद सिराज, नवदीप सैनी और करियर का आगाज करने वाले वॉशिगंटन सुंदर ने एक-एक विकेट चटकाया.

शुरूआती दो विकेट 17 रन पर गंवाने के बाद ऑस्ट्रेलिया ने लबुशेन के 108 रन की मदद से मैच में वापसी की. पहले दिन का खेल समाप्त होने पर कप्तान टिम पेन 38 और कैमरन ग्रीन 28 रन बनाकर खेल रहे थे । दोनों ने छठे विकेट के लिये 61 रन की अटूट साझेदारी कर ली है. आखिरी सत्र में भारतीय टीम को एक गेंदबाज की कमी खली जिसका मेजबान बल्लेबाजों ने फायदा उठाया आखिरी सत्र में गिरे दोनों विकेट टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले टी नटराजन के नाम रहे, जिन्होंने मैथ्यू वेड (87 गेंद में 45 रन) और लबुशेन को लगातार दो ओवरों में पवेलियन भेजा. इसके साथ ही उन्होंने दोनों के बीच 113 रन की साझेदारी भी तोड़ी. वेड ने शारदुल ठाकुर को कैच थमाया, जबकि लबुशेन विकेट के पीछे कैच देकर लौटे. लबुशेन ने 204 गेंद में नौ चौकों की मदद से 108 रन बनाये.

इससे पहले टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले ऑफ स्पिनर वॉशिंगटन सुंदर ने स्टीव स्मिथ (36) के रूप में बड़ा विकेट लिया जिन्होंने शॉर्ट मिडविकेट पर रोहित शर्मा को कैच थमाया. स्मिथ और लबुशेन ने 69 रन की साझेदारी की थी. स्मिथ के आउट होने के बाद लबुशेन ने रनगति बढाई और 167 गेंद में सात चौकों की मदद से 73 रन बना लिये हैं. उन्हें सैनी की गेंद पर गली में अजिंक्य रहाणे ने जीवनदान भी दिया । इसके तुरंत बाद सैनी दर्द के कारण मैदान से चले गए. इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर और मारकस हैरिस को पहले ही सत्र में पवेलियन लौट गए. साल 2018 में अपने पहले टेस्ट में दस गेंद डालने का अनुभव रखने वाले ठाकुर और कुल तीन टेस्ट का अनुभव रखने वाले भारतीय गेंदबाजी आक्रमण ने निराश नहीं किया.

वॉर्नर पूरी तरह फिट नहीं थे और क्रीज पर सहज भी नहीं दिखे. वह एक रन बनाकर सिराज की गेंद पर रोहित शर्मा को कैच दे बैठे. रोहित ने अपने दाहिने ओर डाइव लगाकर यह कैच लपका. वेस्टइंडीज के खिलाफ 2018 में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करके महज 10 गेंद डाल सके ठाकुर ने आउटस्विंग पर हैरिस को चकमा दिया और वह पांच के निजी योग पर स्क्वेयर लेग में वाशिंगटन सुंदर को कैच देकर पवेलियन लौटे. अपने प्रमुख खिलाड़ियों की फिटनेस समस्या से जूझ रही भारतीय टीम के लिये सुंदर और नटराजन ने टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया. नटराजन भारत के 300वें टेस्ट क्रिकेटर बने और एक ही दौरे पर तीनों प्रारूपों में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले पहले खिलाड़ी भी बन गए. उन्हें अभ्यास गेंदबाज के तौर पर रोका गया था, लेकिन प्रमुख गेंदबाजों की चोटों के कारण उन्हें टेस्ट में भी पदार्पण का मौका मिल गया. सिडनी टेस्ट के नायक रविचंद्रन अश्विन और हनुमा विहारी चोट के कारण बाहर हैं जबकि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और हरफनमौला रविंद्र जडेजा भी चोटों के कारण यह टेस्ट नहीं खेल सके.

इससे पहले अपने प्रमुख खिलाड़ियों की फिटनेस समस्या से जूझ रही भारतीय टीम में चार बदलाव करते हुए टी नटराजन और वॉशिंगटन सुंदर को शामिल किया गया. अनुभवी तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और हरफनमौला रवींद्र जडेजा चोट के कारण इस मैच से बाहर हैं. सिडनी टेस्ट के नायक रविचंद्रन अश्विन और हनुमा विहारी भी चोटिल होने के कारण टीम से बाहर हैं. तेज गेंदबाज शारदुल ठाकुर और बल्लेबाज मयंक अग्रवाल को भी अंतिम एकादश में जगह मिली है.नटराजन भारत के 300वें टेस्ट क्रिकेटर बने और एक ही दौरे पर तीनों प्रारूपों में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले पहले खिलाड़ी भी बन गए. उन्हें अभ्यास गेंदबाज के तौर पर रोका गया था लेकिन प्रमुख गेंदबाजों की चोटों के कारण उन्हें टेस्ट में भी पदार्पण का मौका मिल गया. मैच में खेल रहीं दोनों देशों की फाइनल इलेवन इस प्रकार हैं: 

ऑस्ट्रेलिया:  1. डेविड वॉर्नर 2. मारनस हैरिस 3. मारनस लबुशेन 4.स्टीव स्मिथ 5. मैथ्यू वेड 6. कैमरून ग्रीन 7. टिम पेन (विकेटकीपर) 8. पैट कमिंस 9. मिचेल स्टॉर्क 10. नॉथन लॉयन 11. जोश हेजलवुड

भारत: 1. रोहित शर्मा 2. शुबमन गिल 3. चेतेश्वर पुजारा 4. अजिंक्य रहाणे 5. मयंंक अग्रवाल 6. ऋषभ पंत (विकेटकीपर) 7 वॉशिंगटन सुंदर 8. शारदूल ठाकुर 9. नवदीप सैनी 10. मोहम्मद सिराज 11. टी. नटराजन