पिछले साल देश में चक्रवात के कारण 115 लोगों, 17,000 से अधिक मवेशियों की हुई मौत


नई दिल्ली: भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को कहा कि पिछले साल देश में आए चक्रवातों के कारण 115 लोगों और 17,000 से अधिक मवेशियों की जान चली गई. वर्ष 2020 में उत्तरी हिंद महासागर क्षेत्र में पांच चक्रवात बने, जिनमें अम्फान, निवार, गति, निसर्ग और बुरेवी शामिल रहे. निसर्ग एवं गति जहां अरब सागर से उठे तो वहीं बाकी तीन बंगाल की खाड़ी से उठे थे. इन चक्रवातों में अम्फान ने सबसे अधिक तबाही मचाई. आईएमडी ने ''भारत की जलवायु स्थिति रिपोर्ट 2020'' में कहा, ''अम्फान चक्रवात के कारण 90 लोगों और 4,000 से अधिक मवेशियों की मौत हुई, जिनमें से अधिकतर पश्चिम बंगाल के थे.''

इसके मुताबिक, मानसून के मौसम में आया निसर्ग बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान था और यह तीन जून को महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्र से गुजरा था. इसके चलते महाराष्ट्र में चार लोगों और 2,000 मवेशियों की जान चली गई. वहीं, बाकी तीन चक्रवात निवार, बुरेवी और गति मानसून के मौसम के बाद आए. निवार तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटों से गुजरा, जिसके चलते तमिलनाडु एवं आंध्र प्रदेश में 12 लोगों और 10,836 मवेशियो की मौत हो गई.