नववर्ष मंगलम


स्वागत नव वर्ष में आपका नव दिन मंगलमय हो 

वर्ष के पूरे 365 दिन ही मंगलमय हो ll


विदा करें विगत वर्ष को जिसमें मिले कुछ कटु मृदु अनुभव 

कुछ खट्टी कुछ मीठी यादें बीते साल के कुछ अनुभव ll


 जीवन माला से बेशक कम हो गए एक मोती 

मन में बस संतोष हुआ बेशक निकला एक मोती ll


जीवन के इस दौर में बढ़ा एक साल का नया अनुभव 

जीवन जीने की कला में जोड़ा एक साल का नया अनुभव ll


अपनों संग साथ बिताए साल के कुछ अच्छे दिन 

कभी सफलता तो कभी निराशा भरा बिता वह साल के दिन ll


 जब हासिल किया नई ऊंचाई तब हुआ कुछ अच्छा अनुभव 

लेकिन जब निराशा हाथ लगी तो पाया कुछ कटु अनुभव ll


इसी कटु और मृदु तथ्यों पर अब विचार करना है 

हम मानव की इसी कमी को अब खुद हीं तो भरना है ।।


अब आशा आने वाले दिनों से कुछ मंगल ही होगा

 साल के अगले 365 दिन मंगल मंगल ही होगा ll


 नववर्ष लेकर आया है नवीन और नूतन प्रभात 

खग बिहाग की चीहुँक करा रही इसका एहसास ll


नव ऊर्जा संग नई जोश संग करना है इसका आगाज 

पिछले वर्ष की पिछली गलती को सुधार कर करें कुछ नया आगाज ll


नमन करें उस सत्पुरुषों को जिसका छूटा समाज से साथ 

उनके नेक विचारों से अब बनाना एक नया समाज ll

 कवि कमलेश झा

राजधानी दिल्ली

9990891378