तसल्ली


शहरों और सड़कों की दशा

बदलने की बात थी

और ' उन्होंने ' नाम बदलकर ही

तसल्ली कर ली।


कार्य-संस्कृति में बदलाव करके

सुधार करने की बात थी

और ' उन्होंने ' खूब प्रचार करके ही

तसल्ली कर ली।


महिलाओं की सुरक्षा के पुख्ता उपाय

करने की बात थी

और ' उन्होंने ' उसी पर दोष मढ़कर

तसल्ली कर ली।


किसानों, मजदूरों के हालातों में

बदलाव की बात थी

और ' उन्होंंने ' खालिस्तानी, वामपंथी करार

देकर तसल्ली कर ली।


सबको अपना मानकर भेदभाव ना

करने की बात थी

और ' उन्होंने ' विरोधियों को देशद्रोही करार

देकर तसल्ली कर ली।


जितेन्द्र ' कबीर '

संपर्क सूत्र - 7018558314