गणित दिवस

 

नई     सर्जना     करे    गणित,

सारी     गणना   करे    गणित।
साध्य सिद्ध  करनी हो जब भी,
नई    कल्पना    करे    गणित।
ज्योतिष ज्ञान गणित आधारित,
है खगोल भी गणित आधारित।
हैं   भूगर्भ   शास्त्र    की    बातें,
पूरी  तरह   गणित   आधारित।
गुणा- भाग  बाकी  के  संग  में,
अंकों    का   है   मेल   गणित।
सही   बात  है   ये   भी   जानों,
मात्र   बुद्धि   का  खेल  गणित।
गणित     दिवस     पर    आज,
सभी  गणितज्ञों   का  वन्दन है।
अर्पित      करती     हूँ    सादर,
निज     भावों      का    चन्दन।

प्रवीणा दीक्षित, वरिष्ठ गीतकार कवयित्री
व शिक्षिका,स्वतन्त्र लेखिका व स्तम्भकार,
जनपद-कासगंज,उत्तर-प्रदेश