विटामिन ए का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए लगातार प्रयास जारी: डॉ.अनीता जोशी


सहारनपुर। अपर निदेशक, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण डा0 श्रीमती अनीता जोशी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से विटमिन ए का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहे है। उन्होंने कहा कि विटामिन ए की कमी से अंधापन, आंखों में सूखापन, रूखे बाल, सूखी त्वचा, बार-बार सर्दी.जुकाम, थकान, कमजोरी, नींद न आना, रतौंधी, निमोनिया और वजन में कमी होने जैसी कई परेशानियां झेलनी पड़ जाती हैं। उन्होंने कहा कि बाल स्वास्थ्य पोषण माह के अंतर्गत 09 माह से 05 वर्ष तक के 4 लाख 38 हजार 356 बच्चों को विटामिन ए की खुराक दिये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

डा0 श्रीमती अनीता जोशी आज यहां पुराना अस्पताल, रिवैम्पिंग केन्द्र में बाल स्वास्थ्य पोषण माह दिसम्बर, 2020 का उद्घाटन के अवसर पर यह बात कही। उन्होंने कहा कि शरीर में विटामिन ए की भरपाई करने के लिए अंडा, दूध, गाजर, पीली या नारंगी सब्जियां, पालक, पपीता, दही, सोयाबीन और दूसरी पत्तेदार हरी सब्जियां का सेवन करना चाहिए। बच्चों में विटामिन ए की कमी को माॅ के दूध से बेहतर कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने कहा कि बच्चों की समुचित देखभाल के साथ ही उन्हें कुपोषण से बचाया जाना जरूरी है। उन्होंने सभी प्रभारी चिकित्सकों का आह्वान किया कि वी0एच0एन0डी0 वाले दिन 02 वर्ष तक के बच्चों को विटामिन ए की खुराक दी जाये। शेष 3-5 वर्ष तक के बच्चों को वी0एच0एन0डी0 का अतिरिक्त सत्र आयोजित कर विटामिन ए की खुराक पिलाई जाने की व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि अभियान के दौरान सभी लोग मॉस्क लगा कर आने और शारीरिक दूरी का पालन भी करेने के बारे में सचेत किया जाए।
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी, डा0 सुनील कुमार वर्मा ने कहा कि बाल स्वास्थ्य पोषण माह में आयोजित कैम्पों में 09 माह से 05 वर्ष तक के बच्चों में विटामिन ए कवरेज के अधिक से अधिक को बढ़ावा  देना है। सभी कुपोषित बच्चों का पुनःवजन, पहचान, प्रबंधन व संदर्भन करना। नियमित टीकाकरण के दौरान लक्षित बच्चों के साथ आंशिक प्रतिरक्षित (ड्राप आउट) बच्चों का प्रतिरक्षण करते हुये शत प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित करना। बाल्य रोगों की रेाकथाम करते हुये स्तनपालन व ऊपरी आहार को बढ़ावा देते हुये कुपोषण से बचाव करना तथा आयोडीन युक्त नमक के प्रयोग का बढावा देने के सम्बन्ध में आमजन को जानकारी दी जा रही है।
उद्घाटन के अवसर प्रमुख अधीक्षक एस0बी0डी0 जिला चिकित्सालय, डा0 श्रीमती आभा वर्मा, नोडल अधिकारी (एन0यू0एच0एम0) डा0 संजय यादव-, प्रभारी चिकित्साधिकारी रिवैम्पिंग केन्द्र, ए0आर0ओ0 श्री  अरविन्द कुमार व श्री पवन कुमार, अरबन हैल्थ कोर्डिनेटर डा0 मुनव्वर हसन सहित आशा, ए0एन0एम0, यूनिसेफ/कोर के डी0एम0सी0, बी0एम0सी0 व अन्य अधिकारी/कर्मचारीगण आदि उपस्थित रहे।