डीएम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई जिला स्तरीय पोषण समिति की बैठक


बहराइच । जिला स्तरीय पोषण समिति व कुपोषण मुक्त गाॅवों की प्रगति की समीक्षा के लिए मंगलवार को देर शाम कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी शम्भु कुमार  ने निर्देश दिया कि गर्भवती महिलाओं का प्रथम त्रैमास में पंजीकरण अवश्य करा लिया जाये ताकि गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य का बेहतर ढंग से फालोअप किया जा सके। इससे इनिमिया की समस्या का भी सही ढंग से समाधान हो सकेगा। पंजीकरण के समय एनिमिक महिलाओं का विवरण अलग से रखा जाय तथा तद्नुसार उनके स्वास्थ्य की देख-भाल की जाय। जिलाधिकारी ने नोडल अधिकारियों को निर्देश दिया कि गाॅव के भ्रमण के दौरान ए.एन.सी. जाॅच, गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण, एम.सी.पी. कार्ड को अनिवार्य रूप से देखें तथा आवश्यकतानुसार अपनी ओर से सुझाव भी दें। पोषण वाटिका की व्यवस्था के समीक्षा के दौरान निर्देश दिये गये कि जिला उद्यान अधिकारी से समन्वय कर उपयोगी वं आकर्षक वाटिका विकसित की जाय। पोषण पुनर्वास केन्द्र व मुख्यमंत्री सुपोषण घर की समीक्षा के दौरान विशेश्वरगंज, जरवल, बलहा, रिसिया, नवाबगंज व महसी में कम बच्चे भर्ती पाये जाने पर कड़ी अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए निर्देश दिया कि प्रत्येक माह 05 से कम बच्चे भर्ती पाये जाने पर सम्बन्धित सी.डी.पी.ओ. का वेतन बाधित करने की कार्यवाही की जायेगी।

जिलाधिकारी द्वारा प्रभारी चिकित्साधिकारियों को निर्देश दिये गये कि पोषण पुनर्वास केन्द्र व मुख्यमंत्री सुपोषण घर में बच्चों को रोकने के लिए अपने स्तर से अभिभावकों की काउन्सलिंग करें। श्री कुमार ने यह भी निर्देश दिया कि मुख्य चिकित्साधिकारी अपने स्तर से पोषण पुनर्वास केन्द्र व मुख्यमंत्री सुपोषण घर की व्यवस्थाओं की नियमित रूप से समीक्षा करते रहें। सी.डी.पी.ओ. को निर्देश दिया गया कि प्रत्येक माह कम से कम 10 बच्चों को पोषण पुनर्वास केन्द्र व मुख्यमंत्री सुपोषण घर रिफर किया जाय। श्री कुमार ने यह भी निर्देश दिया कि सी.डी.पी.ओ. व प्रभारी चिकित्साधिकारी ए.एन.एम. व आशा के साथ बैठक कर कुपोषित बच्चों के अभिभावकों को पोषण पुनर्वास केन्द्र व मुख्यमंत्री सुपोषण घर के लिए प्रेरित करें।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना, उप जिलाधिकारी नानपारा सूरज पटेल आई.ए.एस., मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ. राजेश मोहन श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. डी.के. सिंह, डीसी मनरेगा के.डी. गोस्वामी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डाॅ. बलवन्त सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक राजेन्द्र कुमार पाण्डेय, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत प्रदीप कुमार गुप्ता, जिला पंचायत राज अधिकारी उमाकान्त पाण्डेय सहित अन्य अधिकारी व सी.डी.पी.ओ. मौजूद रहे।